अफगानिस्तान में तालिबान की वापसी के पीछे इस शख्स का है बड़ा हाथ

Afghanistan Crisis: इराक में अमेरिकी विफलताओं और अब अफगानिस्तान में तालिबान की सत्ता में वापसी का मुख्य कारण बने रहस्यमय राजनयिक जलमय खलीलजाद को लेकर सवाल उठ रहे हैं. अफगान मूल के एक प्रमुख अमेरिकी राजनयिक खलीलजाद लंबे समय से वाशिंगटन के ‘आतंक के खिलाफ युद्ध’ में उनकी भूमिका के लिए एक विवादास्पद व्यक्ति रहे हैं. टीआरटी वर्ल्ड ने बताया कि उन्होंने तालिबान के साथ वाशिंगटन की वार्ता का भी नेतृत्व किया, जिन्हें कई लोग अफगानिस्तान में पश्तून-प्रभुत्व वाले समूह की बिजली की गति से जीत के मुख्य अग्रदूत के रूप में देखते हैं.

अमेरिका द्वारा प्रशिक्षित अफगान सेना के खिलाफ तालिबान की आश्चर्यजनक रूप से त्वरित जीत के बाद, कई सरकारी संचालक और विशेषज्ञ अफगान समूह की सत्ता में वापसी में वाशिंगटन की भूमिका, विशेष रूप से खलीलजाद की भूमिका पर अटकलें लगा रहे हैं. कुछ अन्य विशेषज्ञ मानते हैं कि खलीलजाद ने अपने व्यक्तिगत और पारिवारिक हितों को बढ़ावा देने के लिए एक ‘विशेष राजनीतिक एजेंडा’ अपनाया.

समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, अटलांटिक काउंसिल के एक अनिवासी वरिष्ठ फेलो कमल आलम कहते हैं, “अफगानिस्तान में फैली अराजकता और विनाश के लिए जिम्मेदार एक व्यक्ति जलमय खलीलजाद हैं. कथित वित्तीय भ्रष्टाचार के लिए उनकी जांच होनी चाहिए.” 2014 में, खलीलजाद से संबंधित वित्त एक ऑस्ट्रियाई जांच के अधीन था, जिसने अमेरिकी न्याय विभाग की जानकारी के आधार पर यूरोपीय देश में उनकी पत्नी के खातों को सील कर दिया था, क्योंकि उन्हें इराक और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में व्यावसायिक गतिविधियों से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग का संदेह था.

आलम ने टीआरटी वर्ल्ड को बताया, “यह आदमी अफगानिस्तान का राष्ट्रपति बनना चाहता था. वह अफगानिस्तान का राष्ट्रपति बनने के लिए दौड़ा. कोई उसे पसंद नहीं करता. हर कोई उससे नफरत करता है.” एक तुर्की सूत्र, जो खलीलजाद के साथ घनिष्ठ रूप से परिचित है, ने अपनी पहचान गुप्त रखने की शर्त पर उनके बारे में बता की और कहा कि उन्हें किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में सार्वजनिक रूप से ‘नकारात्मक विचार’ व्यक्त करना होगा, जिसे वह बहुत अच्छी तरह से जानते हैं.

अफगानिस्तान में अमेरिकी राजदूत के रूप में उनकी नियुक्ति से पहले, अफगानिस्तान के उनके कुछ देशवासियों ने उन पर ‘जातीय-राष्ट्रवादी प्रेरित आचरण’ का आरोप लगाते हुए एक याचिका पर हस्ताक्षर किए थे, जो अमेरिकी आक्रमण के बाद पश्तून समुदाय के प्रभुत्व के लिए उनके कथित समर्थन का परोक्ष संदर्भ था. आलम ने इस तथ्य की ओर ध्यान आकर्षित किया कि खलीलजाद को अपने मूल देश, अफगानिस्तान में अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं को स्पष्ट करने के बाद कभी भी अमेरिका और तालिबान के बीच शीर्ष मध्यस्थता की स्थिति में नहीं होना चाहिए था.

कथित तौर पर खलीलजाद 2009 के अफगान चुनावों में चुनौती देना चाहते थे, लेकिन अपनी उम्मीदवारी दाखिल करने की समय सीमा से चूक गए. आलम ने सवाल पूछते हुए कहा, “एक अमेरिकी अधिकारी कैसे तटस्थ हो सकता है, जब वह अफगानिस्तान नामक दूसरे देश के राष्ट्रपति पद के लिए दौड़ लगा रहा हो?” आलम कहते हैं कि हालांकि वह ‘अफगानिस्तान के महान खेल’ या ‘द ग्रेट गेम ऑफ अफगानिस्तान’ के सक्रिय भागीदार रहे हैं, लेकिन ऐसा कोई तरीका नहीं है जिससे वह स्वतंत्र सलाहकार का काम कर सकें.

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन द्वारा अमेरिकी विदेश मंत्री के पद के लिए भी खलीलजाद के नाम पर विचार किया गया था. एक पाकिस्तानी लेखक अहमद राशिद ने भी ‘ब्रिटिश वायसराय की तरह काम करने’ के लिए उनकी आलोचना की. सोवियत और अमेरिकियों से पहले, अंग्रेजों ने भी अफगानिस्तान पर आक्रमण किया था. आलम का मानना है कि खलीलजाद अफगान सिपहसालार से अलग नहीं है. उन्होंने कहा, “वह बहुत हद तक एक अफगान सिपहसालार हैं. उनका राजनीतिक एजेंडा किसी भी अन्य अफगान सिपहसालार जैसा ही है.”

अमेरिका की ओर से अफगानिस्तान में सैन्य वापसी के बाद भी, वाशिंगटन में खलीलजाद का राजनीतिक मूल्य बढ़ सकता है, क्योंकि उनके अलावा किसी भी अमेरिकी को इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि तालिबान आगे क्या कर सकता है. आलम कहते हैं, “इसीलिए बाइडेन (अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन) ने उन्हें रखा है, क्योंकि वह अकेला आदमी है जो तालिबान से बात कर सकता है.”

न्यू अमेरिका के अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा कार्यक्रम के एक वरिष्ठ फेलो इयोनिस कोस्किनस कहते हैं, “वह अपने मिशन में विफल रहा है. जिस तरह ब्रिटिश और फ्रांसीसी प्रधानमंत्री नेविल चेम्बरलेन और एडौर्ड डालडियर सितंबर 1938 म्यूनिख संधि के बाद जर्मनी के विस्तार को रोकने में विफल रहे, राजदूत खलीलजाद ने फरवरी 2020 में दोहा में एक समझौते पर हस्ताक्षर किए, जो सुलह और जुझारू लोगों के बीच एक राजनीतिक समझौता करने में विफल रहा.”

कोस्किनस ने टीआरटी वल्र्ड को बताया, “तालिबान अफगानिस्तान के कुल अधिग्रहण के अपने इरादे को लेकर स्पष्ट थे. राजदूत खलीलजाद के प्रयासों को अमेरिका के लिए एक सुगम निकास (आसानी से अफगानिस्तान से निकलना) के बारे में माना जाता था, जिसने अफगानिस्तान में कोई गड़बड़ी नहीं छोड़ी. तालिबान ने तो अपना लक्ष्य हासिल किया, मगर राजदूत खलीलजाद ने ऐसा नहीं किया.”

कोस्किनस, एक पूर्व अमेरिकी सैन्य अधिकारी, जिन्होंने विशेष बलों के सदस्य के रूप में वर्षों तक अफगानिस्तान में सेवा की, ने भी अफगान शांति प्रक्रिया और इसमें खलीलजाद की भूमिका की तीखी आलोचना की. उन्होंने खलीलजाद की आलोचना करते हुए कहा, “दोहा राजनीतिक वैधता और विश्वसनीयता हासिल करने के लिए तालिबान द्वारा एक चतुराई भरा कदम था.” उन्होंने आगे कहा, “अफगानिस्तान के तालिबान के अधिग्रहण में बहुत कम राजनीतिक प्रक्रिया रही है. जब दोहा में तालिबान के राजनीतिक प्रतिनिधि बात कर रहे थे, अफगानिस्तान में उनके कमांडर लड़ रहे थे.”

ये भी पढ़ें:

तालिबान की बाइडेन को सीधी धमकी, कहा- अगर तय समय में अमेरिकी सैनिक नहीं लौटे तो गंभीर परिणाम भुगतने होंगे

तालिबान की बाइडेन को सीधी धमकी, कहा- अगर तय समय में अमेरिकी सैनिक नहीं लौटे तो गंभीर परिणाम भुगतने होंगे

Source link ABP Hindi