अमेरिका ने अफगानिस्तान में अपनी राजनयिक उपस्थिति समाप्त की, कतर में शिफ्ट होगा

Afghanistan Crisis: अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने कहा कि अमेरिका ने अफगानिस्तान में अपनी राजनयिक उपस्थिति को समाप्त कर दिया. उन्होंने इसे कतर में शिफ्ट करने की बात कही. साथ ही उनका कहना है कि अमेरिका हर उस अमेरिकी की मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है जो अफगानिस्तान छोड़ना चाहता है. न्यूज़ एजेंसी एएफफी ने अमेरिकी विदेश मंत्री के बयान के हवाले से इस बात की जानकारी दी.

एंटनी ब्लिंकन ने का कि अफगानिस्तान में अमेरिका का काम जारी है वह वहां पर शांति व्यस्था बनाए रखने के लिए अपना प्रयास जारी रखेगा. इसके साथ ही वह उन हजारों लोगों को भी मदद करने के लिए आगे आएगा जो अफगानिस्तान से बाहर निकलना चाहते हैं. उन्होंने कहा, “अफगानिस्तान में अमेरिका का काम जारी है, हमारे पास एक योजना है…हम शांति बनाए रखने पर अथक रूप से केंद्रित रहेंगे.. जिसमें हमारे समुदाय में हजारों लोगों का स्वागत करना शामिल है, जैसा कि हमने पहले किया है.”

बता दें कि अमेरिकी विदेश मंत्री का ये बयान ऐसे समय में आया जब अमेरिका ने अफगानिस्तान से अपनी सेना की पूरी तरह से निकासी का एलान किया. यूएस जनरल केनेथ एफ मैकेंजी ने कहा कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों को पूरी तरह से वापस बुला लिया गया है.

यूएस जनरल केनेथ एफ मैकेंजी ने जानकारी देते हुए कहा है कि अफगानिस्तान के हामिद करजई हवाई अड्डे से 30 अगस्त को दोपहर 3:29 बजे रवाना हुए अंतिम सी-17 विमान के साथ ही पूरी तरह से अमेरिकी सैनिकों की वापसी हो गई है. उन्होंने अमेरिकी नागरिकों और अफगानों को निकालने के लिए सैन्य मिशन की समाप्ति की घोषणा की है.

गौरतलब है कि अमेरिका में राष्ट्रपति जो बाइडेन ने पद संभालते ही यह साफ कर दिया था कि वह अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों को मरने के लिए नहीं छोड़ेंगे. साथ ही यह घोषणा कर दी गई थी कि वह अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की  31 अगस्त तक वापस बुला लेंगे.

इसे भी पढ़ेंः

Afghanistan Crisis: तालीबानी नेताओं का इंटरव्यू करने वाली महिला पत्रकार ने भी छोड़ा अफगानिस्तान, abp न्यूज़ से कही ये बात

Pak on Afghan Crisis: पाकिस्तान की चेतावनी, अफगानिस्तान पर हमारी सलाह की अनदेखी हुई तो ‘‘बड़ी अव्यवस्था’’ होने की आशंका

यह भी देखें:

Source link ABP Hindi