आरबीआई ने बढ़ती महंगाई पर जताई चिंता, सप्लाई बढ़ाकर खाद्य और ईंधन महंगाई पर नकेल कसने की वकालत

RBI On Economy: भारतीय रिजर्व बैंक ने कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रोन को अर्थव्यवस्था के लिए एक बड़ी चुनौती करार दिया है आरबीआई ने आसमान छूती महंगाई को भी चिंताजनक बताया है. आरबीआई ने अपना दूसरा फाइनेंशियल स्टेबिलिटी रिपोर्ट जारी किया है जिसमें यह बातें कही गई हैं. 

ये भी पढ़ें: Home Loan at Repo Rate: जिनका सिबिल स्कोर है बेहद ज्यादा, उन्हें बजाज हाउसिंग फाइनैंस नए साल में देगा सबसे सस्ता होम लोन

निजी निवेश और निजी उपभोग बढ़ाने की जरुरत

इस रिपोर्ट में गवर्नर शक्तिकांत दास ने लिखा है कि अप्रैल से मई 2021 के बीच कोरोना के दूसरी लहर के बेहद खतरनाक होने के बावजूद अर्थव्यवस्था में सुधार देखा गया. हालांकि अब जो वैश्विक घटनाएं हो रही हैं और ओमिक्रोन वायरस जो सामने आया है इसने चिंताएं बढ़ा दी हैं. आरबीआई गवर्नर  ने कहा है कि प्राइवेट इन्वेस्टमेंट और निजी उपभोग में बढ़ोतरी से आर्थिक रिकवरी में तेजी आएगी हालांकि ये अभी भी कोरोना महामारी के पहले के दौर से कम है.  

ये भी पढ़ें: E-Shram Yojna Portal: ई-श्रम पोर्टल पर रजिस्टर करने वाले मजदूरों को मोदी सरकार ने दे रही 2 लाख का बीमा समेत कई फायदे, जानें डिटेल्स

महंगाई से आरबीआई चिंतित

आरबीआई गवर्नर ने महंगाई को चिंता का बड़ा कारण बताया है. उन्होंने खाद्य और इंधन महंगाई पर नियंत्रण पाने के लिए सप्लाई बढ़ाए जाने पर जोर दिया है. आरबीआई गवर्नर ने माना कि पॉलिसी और रेगुलेटरी सपोर्ट के चलते कोरोना महामारी का असर देश के वित्तीय संस्थानों पर नहीं पड़ा है और उन्होंने उम्मीद जाहिर किया कि  बैंकों के मजबूत बैलेंस शीट और ज्यादा कैपिटल नगदी की बदौलत भविष्य में किसी भी बड़े झटके से निपटने में मदद मिलेगी. 

Source link ABP Hindi