एकादशी के व्रत से मनोरथ होंगे पूरे, जानें तिथि, शुभ मुहूर्त और पारण का समय

September Ekadashi 2021: हिंदू धर्म में एकादशी व्रत का बड़ा महत्व है. पंचाग के अनुसार हर माह दो एकादशी पड़ती हैं. एक शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली एकादशी और दूसरी कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी. इस माह कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को अजा एकादशी कहा जाता है. जो कि 3 सितंबर को मनाई जा रही है. वहीं, शुक्ल में पक्ष की एकादशी का भी महत्व है. इस बार शुक्ल पक्ष की एकादशी 17 सिंतबर की पड़ रही हैं. इसे परिवर्तिनी एकादशी कहा जाता है. एकादशी के व्रत में भगवान विष्णु जी की पूजा-अर्चना की जाती है. व्रत का पूर्ण लाभ लेने के लिए व्रत का पारण सही तरीके से किया जाना जरूरी होता है. एकादशी के दिन चावल खाना वर्जित होता है. ऐसी मान्यता है कि इस चावल खाने से अगले जन्म में रेंगने वाले जीव की योनि में जन्म मिलता है. आइए जानते हैं सितंबर माह में पड़ने वाली एकादशी के शुभ मुहूर्त और उनके पारण का सही समय-

सितंबर माह की एकादशी के शुभ मुहूर्त (september ekadashi shubh muhurat)
पंचाग के अनुसार इस साल सितंबर में अजा एकादशी 3 सितंबर और परिवर्तिनी एकादशी 17 सितंबर को मनाई जाएगी. अजा एकादशी का शुभ मुहूर्त 2 सितंबर 2021, दिन गुरुवार सुबह 6:21 से शुरू होकर 3 सितंबर 2021, शुक्रवार सुबह 7:44 तक होगा. वहीं, 17 सितंबर को पड़ने वाली परिवर्तिनी एकादशी का शुभ मुहूर्त 16 सितंबर सुबह 9:36 से शुरू होकर 17 सितंबर एकादशी 8:08 तक होगी. इसके बाद द्वादशी लग जाएगी. 

एकादशी पारण का समय (ekadashi paran time)
3 सितंबर को पड़ने वाली अजा एकादशी का व्रत खोलने के लिए पारण का समय 4 सितंबर 2021, शनिवार को सुबह 5:30 से सुबह 8:23 तक है. व्रत के दौरान पारण के शुभ मुहूर्त का भी ध्यान रखना जरूरी है. वहीं, 17 सितंबर को पड़ने वाली परिवर्तिनी एकादशी के पारण का समय सुबह 6:50 से शुरू होकर 8:23तक है. 

Shani Dev: जन्माष्टमी से दो दिन पूर्व शनि देव को प्रसन्न करने का बन रहा है संयोग, कृष्ण भक्तों को नहीं सताते हैं शनि देव, जानें क्या है इसकी वजह
Bhai Dooj 2021: भाईदूज पर क्यों करती हैं बहनें भाइयों को तिलक, जानें तिथि, शुभ मुहूर्त और विधि

 

Source link ABP Hindi