ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को हरा 34वीं बार जीता ऐतिहासिक एशेज का खिताब, 1882 से शुरू हुई थी ‘जंग’

Ashes 2021: ऑस्ट्रेलिया (Australia) और इंग्लैंड (England) के बीच मेलबर्न में खेला गया तीसरा मुकाबला महज 3 दिन में पूरा हो गया. ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को करारी शिकस्त देकर 3-0 की बढ़त बनाकर सीरीज पर कब्जा कर लिया. एशेज सीरीज गंवाने के बाद इंग्लैंड को अपनी साख बचाने के लिए आखिरी दो मुकाबलों में अच्छा प्रदर्शन करना होगा. हालांकि जिस तरह का प्रदर्शन अब तक इंग्लैंड का रहा है, उसे देखकर यह काफी मुश्किल लग रहा है. एशेज सीरीज का इतिहास बेहद पुराना है. आज आपको इसके इतिहास और अब तक दोनों टीमों के आंकड़ों के बारे में बताएंगे. 

वर्तमान में चल रही 72वीं एशेज सीरीज

ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच अब तक 71 सीरीज खेली गई हैं. वर्तमान में चल रही यह 72वीं सीरीज है. ऑस्ट्रेलिया ने शुरुआती तीन मैच जीतकर 34वीं बार यह सीरीज अपने नाम की है. इसके अलावा इंग्लैंड ने 32 बार इस ऐतिहासिक सीरीज में अपना जलवा कायम किया है. जबकि 6 सीरीज ड्रॉ रही हैं. पिछली कुछ सीरीज की बात की जाए तो ऑस्ट्रेलिया ने शानदार प्रदर्शन किया है और इंग्लैंड के रिकॉर्ड को तोड़कर इस मामले में आगे पहुंच गई है. 

Test Records: अब तक इतने भारतीय खिलाड़ी टेस्ट क्रिकेट में हासिल कर चुके 200 से ज्यादा विकेट

साल 1882 से शुरू हुई थी बादशाहत की ‘जंग’ 

एशेज की कहानी 1882 में शुरू हुई, जब इंग्लैंड को पहली बार ओवल में ऑस्ट्रेलिया ने हराया था. यह घटना पूरे विश्व के लिए काफी हैरान करने वाली थी, क्योंकि उस वक्त इंग्लैंड को क्रिकेट का बादशाह माना जाता था. इंग्लैंड जब घर में ऑस्ट्रेलिया से हारी, तो एक अखबार ने ‘ओवल में इंग्लिश क्रिकेट की मौत’ नाम से एक व्यंग छापा था. अखबार ने लिखा कि अंग्रेजी क्रिकेट को जला दिया जाएगा और राख (Ashes) को ऑस्ट्रेलिया भेज दिया जाएगा.

IPL 2022: क्या David Warner की हैदराबाद में होगी वापसी? फ्रेंचाइजी के ट्वीट से शुरू हुआ कयासों का दौर

जब इंग्लैंड ने अगली बार ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया तो वह एक जोड़ी गिल्लियों को जलाकर राख बनाई गई और उसे एक कलश में डाल दिया. आज भी जीतने वाली टीम को उसी तरह की ट्रॉफी दी जाती है. जबकि असली कैलाश 100 से अधिक वर्षों के बाद लॉर्ड्स क्रिकेट मैदान में मैरीलेबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) संग्रहालय में रख दिया. इस तरह इस सीरीज का काफी महत्व हो गया और इसे एशेज के नाम से प्रसिद्धि मिल गई.

Source link ABP Hindi