ओमिक्रोन के खतरे के बीच 2 नई वैक्सीन को मिली मंजूरी, अब देश में हैं 8 वैक्सीन

Corbevax-Covovax Approved For Emergency Use: कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ लड़ाई में भारत को दो और वैक्सीन के इमरजेंसी यूज (Emergency Use) के लिए मंजूरी मिली है. इसके साथ ही भारत के पास कोरोना (Corona) से लड़ने के लिए अब कुल आठ वैक्सीन है. बायोलॉजिकल-ई की कोरबेवैक्स (Corbevax) वैक्सीन और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) की कोवोवैक्स (Covovax) वैक्सीन को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने इमरजेंसी यूज के लिए मंजूरी दी है. 

हैदराबाद स्थित फार्मा कंपनी बायोलॉजिकल-ई द्वारा तैयार कोरबेवैक्स (Corbevax) वैक्सीन भारत की पहली स्वदेशी रूप से विकसित आरबीडी (RBD) प्रोटीन सब-यूनिट वैक्सीन है. ये पूरी तरह स्वदेशी वैक्सीन है. इसी तरह नैनोपार्टिकल तकनीक से बनी वैक्सीन कोवोवैक्स (Covovax) को पुणे स्थित फर्म सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा तैयार किया जाएगा. 


दोनों वैक्सीन को इमरजेंसी यूज की अनुमति

इन दोनों वैक्सीन को हाल ही में CDSCO यानी सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन की सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी ने अनुमति देने की सिफारिश की थी. इसके बाद ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने इन दोनों वैक्सीन को इमरजेंसी यूज की अनुमति दे दी. इस बात की जानकारी खुद स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडविया ने ट्वीट कर दी.

ये भी पढ़ें- PM Modi और Amit Shah ने कारोबारी के घर छापे का किया जिक्र, अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कही ये बात

कोरबेवैक्स तीसरी स्वदेशी वैक्सीन है

हैदराबाद की फार्मा कंपनी बायोलॉजिकल-ई द्वारा बनाई गई कोरबेवैक्स (Corbevax) तीसरी वैक्सीन है, जो स्वदेशी है. इसे पहले भारत बायोटेक की कोवोवैक्स (Covovax) और जायडस कैडिला की जायकोव-डी (ZyCoV-D) भारत में बनी है. इन तीनों का क्लीनिकल ट्रायल और निर्माण भी भारत में हुआ है. 

भारत के पास आठ वैक्सीन हो गई है

भारत में अब सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की  कोविशील्ड (Covishield), भारत बायोटेक की कोवैक्सीन (Covaxin), जायडस कैडिला की  जायकोव-डी (ZyCoV-D), रूस की  स्पूतनिक-वी (Sputnik-V), मोडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन को इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली है. इसके साथ ही भारत के पास आठ वैक्सीन हो गई है.

वैक्सीनेशन के लिए तीन वैक्सीन है उपलब्ध 
 
हालांकि, टीकाकरण के लिए अभी तक तीन ही वैक्सीन सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड (Covishield), भारत बायोटेक की कोवैक्सीन (Covaxin) और रूस की स्पूतनिक वी ( Sputnik-V) उपलब्ध है. वहीं जल्द ही कैडिला की जायकोव-डी (ZyCoV-D) के उपलब्ध होने की उम्मीद है. 

ये भी पढ़ें- Jasprit Bumrah Injury: भारतीय टीम के लिए बड़ा झटका, तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह हुए चोटिल, जानें डिटेल 

Source link ABP Hindi