कन्या संक्रांति पर इस विधि से करें पूजा, होगी अक्षत पुण्य की प्राप्ति

Kanya Sankranti 2021: कन्या संक्रांति (kanya sankranti) इस साल 16 सितंबर को मानई जाएगी. पंचाग (hindu calander) के अनुसार हर साल 12 संक्रांति मनाई जाती हैं. कन्या संक्रांति इनमें से एक है. हिंदू धर्म में कन्या संक्रांति का विशेष महत्व (kanya sankranti importance) है. इस दिन स्नान, दान आदि का विशेष महत्व माना गया है. पितरों की शांति के लिए इस दिन पूजा करना अच्छा रहता है. इसी दिन विश्वकर्मा भगवान की पूजा (vishwakarma puja) भी की जाती है. इस कारण इस तिथि का महत्व और अधिक बढ़ जाता है. कहते हैं कि कन्या राशि में बुध देव पहले से ही मौजूद हैं. कन्या संक्रांति के दिन सूर्य और बुध का मिलन होने के कारण दोनों इस राशि में बुधादित्य योग का निर्माण करते हैं. 

इस दिन सूर्य देव की उपासना की जाती है. कहते हैं कि इस दिन सूर्य देव की उपाय करने से करियर में सफलता मिलती है. कन्या राशि के जातकों का समाज में मान-सम्मान बढ़ता है. जॉब में प्रमोशन मिल सकता है. कहते हैं कि इस समय में आपको शुभ समाचार मिलने की संभावना अधिक रहती है. वैवाहिक जीवन के लिए सूर्य का आपकी राशि में आना ज्यादा अनुकूल नहीं है. पार्टनर से विवाद की स्थिति बन सकती है, इसलिए खास ख्याल रखें. 

कन्या संक्रांति पूजा विधि (kanya sankranti puja vidhi)
धार्मिक मान्यता है कि कन्या संक्रांति के दिन सूर्योदय से पहले उठा जाता है. इस दिन सुबह स्नान के समय पानी में तिल मिलाकर नहाना चाहिए. कहते हैं कि इस दिन किसी नदी आदि में स्नान करना ज्यादा शुभ माना जाता है. इस दिन नदी में स्नान करके पुण्य फल की प्राप्ति के लिए प्रार्थना की जाती है. स्नान के बाद व्रत का संकल्प लिया जाता है. इस दिन दान का विशेष महत्व है. इतना ही नहीं, एक तांबे के लोटे में जल लेकर लाल फूल, चंदन, तिल और गुड़ सूर्यदेव को जल चढ़ाना चाहिए. जल अर्पित करते समय सूर्य मंत्र का स्मरण करना चाहिए. इस दिन आटा, चावल, खिचड़ी और तिल के लड्डू का दान शुभ माना जाता है.  

कन्या संक्रांति पूजा के लाभ (kanya sankranti puja benefits)
धार्मिक मान्यता है कि कन्या संक्रांति के दिन पूजा करना शुभ माना गया है. इस दिन विश्वकर्मा भगवान की भी पूजा की जाती है. जो कि व्यापारियों के लिए अच्छी मानी जाती है. इस दिन औजारों को पूजा में शामिल किया जाता है. कन्या संक्रांति के दिन पूजा करने से जीवन में स्थिरता आती है. लोगों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है. कन्या संक्रांति के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है. 

Kanya Sankranti 2021: इस दिन होगा कन्या राशि में सूर्य का प्रवेश, सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए अपनाएं ये उपाय

Kanya Sankranti 2021: आखिर क्यों मनाई जाती है कन्या संक्राति, जानें इस दिन किस भगवान की होती है पूजा

 

Source link ABP Hindi