कल है हल षष्ठी व्रत, संतान के शतायु होने के लिए रखा जाता है व्रत, जानें पूजा विधि व महत्व

Balaram Jayanti  Hal Shashthi 2021: हिंदी पंचांग के अनुसार भादो माह के कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि को हल षष्ठी का व्रत रखा जाता है. इस बार यह व्रत 28 अगस्त को है. इसे हल छठ भी कहते हैं. हिंदू धर्म के अनुयायियों द्वारा भादो कृष्ण षष्ठी को बलराम जयंती के रूप में भी मनाते हैं. मान्यता है कि इस तिथि को भगवान श्री कृष्ण के बड़े भ्राता बलराम का जन्म हुआ था. बलराम जयंती पर माताएं भगवान श्री कृष्ण के साथ उनके बड़े भाई बलराम की विधि विधान से पूजा करती हैं. तथा अपने पुत्र की लम्बी आयु का वरदान मांगती हैं.

Aaj Ka Panchang 27 August Live: आज शुक्रवार, जानें लक्ष्मी पूजा के लिए शुभ मुहूर्त, राहुकाल व आज का पंचांग

हल षष्ठी या बलराम जयंती 2021 मुहूर्त

पंचांग के अनुसार, भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि आज 27 अगस्त दिन शुक्रवार को को शाम 06 बजकर 48 मिनट पर लगेगी. यह तिथि अगले दिन यानी शनिवार, 28 अगस्त को 08 बजकर 56 मिनट तक रहेगी. व्रत में उदयातिथि से रखने का प्रावधान के चलते हल षष्ठी का व्रत 28 अगस्त को रखा जायेगा. उसके बाद 30 अगस्त को कृष्ण जन्माष्टमी का व्रत होगा.

हल षष्ठी का महत्व

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, बलराम जयंती, हल छठ या हल षष्ठी का व्रत संतान की लंबी आयु और सुखमय जीवन के लिए रखा जाता है. इस दन माताएं निर्जला व्रत रखती हैं तथा बलराम जी की और हल की विधि विधान से पूजा करती है. बलराम जी का अस्त्र गदा के साथ हल भी है. इस लिए  इस षष्ठी तिथि को हल षष्ठी या हल छठ कहते हैं. धार्मिक मान्यता है कि बलराम जी की कृपा से संतान दीर्घायु होती है और उसका जीवन सुखमय तथा खुशहाल होता है.

Source link ABP Hindi