कितने ही प्रतिभाशाली क्यों न हो, अशुभ राहु सफलता में है रोड़ा, करना पड़ता है स्ट्रगल

Rahu : कई बार एक कार्य को बार बार करने के बाद भी सफलता नहीं मिलती है. महत्वपूर्ण कार्य को करने में लगातार बाधाओं का सामना करना पड़े और लक्ष्य को पाने के लिए दूसरों की तुलना में अधिक परिश्रम करना पड़े तो समझ जाए कि कुंडली में राहु अशुभ फल दे रहा है. समय रहते राहु का शांत न किया जाए तो जीवन की सफलता में सबसे बड़ा रोड़ा बन जाता है.

पाप ग्रह है राहु
राहु को नव ग्रहों में महत्वपूर्ण ग्रह माना गया है. राहु को पाप ग्रहों की श्रेणी में रखा गया है. राहु के बारे में कहा जाता है कि ये अत्यंत रहस्मय ग्रह है. कलियुग में इस ग्रह को एक प्रभावी ग्रह माना गया है. राहु शुभ होने पर जहां व्यक्ति को रातों-रात रंक से राजा बनाने की क्षमता रखता है वहीं अशुभ होने पर राहु व्यक्ति का जीवन कष्ट और परेशानियों से भर देता है. ऐसे व्यक्ति को छोटी-छोटी चीजों को पाने के लिए भी बहुत अधिक संघर्ष करना पड़ता है. इसलिए राहु को शांत रखना बहुत ही आवश्यक हो जाता है.

राहु की पौराणिक कथा
पौराणिक कथा के अनुसार राहु और केतु, स्वरभानु नाम के राक्षस के दो हिस्से हैं. स्वरभानु ने छल से समुद्र मंथन से निकले अमृत को पीने का प्रयास किया था, लेकिन लेकिन सूर्य और चंद्रमा ने इसे देख लिया और भगवान विष्णु को इसकी जानकारी दे दी. भगवान विष्णु ने तुरंत ही सुर्दशन चक्र से स्वरभानु का सिर, धड़ से अलग कर दिया है. लेकिन अमृत की कुछ बूंदे गले से नीचे उतरने के कारण मर कर भी अमर हो गया. जिसके चलते सिर वाला हिस्सा ‘राहु’ और धड़ वाला हिस्सा ‘केतु’ कहलाया.

शनि देव के प्रिय दिन से शुरू हो रही है नए साल की शुरुआत, पूरे साल शनि देव की कृपा पाने के लिए शनि भक्त इस दिन करें ये काम

मायवी ग्रह है ‘राहु’
राहु को जीवन में घटित होनी वाली घटनाओं का कारक माना गया है. राहु को भ्रम का भी कारक माना गया है. राहु को ज्योतिष में छाया ग्रह भी बताया गया है. राहु को बहुत ही रहस्मय बताया गया है. इसी कारण राहु प्रधान व्यक्ति को समझने में मुश्किल आती है. ऐसे लोग झूठ बोलने और काम निकालने में भी माहिर होते हैं. राहु शुभ होने पर व्यक्ति कुशल प्रशासक, अच्छा जासूस, कूटनीतिज्ञ और दूसरों को प्रभावित करने की क्षमता रखने वाला होता है.

नशे की बुरी लत भी देता है राहु
मान्यता है कि राहु अशुभ होने पर व्यक्ति को बुरी संगत देता है. ऐसे व्यक्ति गलत लोगों के साथ अधिक समय बिताते हैं. ऐसे लोगों के संबंध अपराधियों से भी होते हैं. राहु व्यक्ति को नशे का आदी भी बनाता है. ऐसे लोग नशे की लत में इतने जकड़ चुके होते हैं कि उसे छोड़ना इनके लिए मुश्किल हो जाता है. राहु और केतु के संयोग से ही कालसर्प दोष का निर्माण होता है. ज्योतिष शास्त्र में इसे सबसे अशुभ योगों में से एक माना गया है. 

राहु के उपाय
राहु जैसे ही खराब फल देने लगे तो तुरंत ही उपाय करना चाहिए. राहु बहुत जल्दी असर दिखाता है. राहु को शांत करने के लिए रसोई में वैठकर भोजन करना चाहिए. चंदन का तिलक लगाना चाहिए. चोटी रखने से भी राहु का दोष दूर होता है. ठोस चांदी का हाथी घर में रखना चाहिए. गुरु की सेवा करने और सरस्वती मां की पूजा करने से भी राहु की अशुभता दूर होती है. भगवान शिव की पूजा करने से भी राहु शांत होता है.

यह भी पढ़ें:
Vastu Tips : नए साल को रोशन करने के लिए चमकाना होगा घर द्वार, जानिए और क्या-क्या हैं उपाय

 

Source link ABP Hindi