कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए रैली पर लगे रोक या चुनाव पर? ABP C Voter Survey में जानें

ABP C-Voter Election Survey: उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बड़ी रैलियां हो रही हैं और इन रैलियों में हजारों की भीड़ भी देखी जा रही है. इसके बीच कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रोन (Omicron) के लगातार बढ़ते मामलों ने चिंता बढ़ा दी है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, ओमिक्रोन के अब तक 578 मामलों की पुष्टि हुई है. 

कोरोना के बढ़ते मामलों और लगातार हो रही रैलियों के बीच एबीपी न्यूज़ के लिए सी वोटर ने सर्वे किया है. इस सर्वे में रैली और चुनाव पर रोक को लेकर सवाल किया गया. इसके जवाब में 52 फीसदी लोगों ने कहा कि रैली पर रोक लगनी चाहिए. वहीं 24 फीसदी का कहना था कि चुनाव पर रोक लगे. वहीं 24 फीसदी ने रैली और चुनाव दोनों पर रोक से असहमति जताई.

कोरोना के बढ़ते कहर को देखते हुए क्या होना चाहिए ?

रैली पर रोक -52%
चुनाव पर रोक-24%
दोनों नहीं -24%

चुनाव आयोग की बैठक

कोरोना के खतरे के बीच चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग ने आज बैठक की. इस बैठक में स्वास्थ्य सचिव ने कोरोना संकट पर रिपोर्ट दी. सूत्रों ने कहा कि स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने देश में, विशेष रूप से उत्तराखंड, मणिपुर, गोवा, पंजाब और उत्तर प्रदेश में कोविड की स्थिति पर लगभग एक घंटे तक निर्वाचन आयोग को जानकारी दी. स्वास्थ्य सचिव ने निर्वाचन आयोग को वायरस के प्रसार की रोकथाम के लिए हाल के दिनों में जारी किए गए कोविड प्रोटोकॉल और गृह मंत्रालय के दिशानिर्देशों के बारे में भी जानकारी दी.

सूत्रों के मुताबिक, आयोग ने आईटीबीपी, बीएसएफ और एसएसबी के शीर्ष अधिकारियों से भी मुलाकात की और अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर कड़ी निगरानी बनाए रखने के लिए कहा.

Source link ABP Hindi