जेल में बंद होने के बावजूद शातिर अपराधी सुकेश चंद्रशेखर ने मांगी रंगदारी, एक और मामला दर्ज

दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने रोहिणी जेल के कैदी सुकेश चंद्रशेखर सिंह के खिलाफ धोखाधड़ी, रंगदारी और आपराधिक साजिश का एक और मामला दर्ज किया है. ये एफआईऱ रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर की पत्नी की शिकायत पर दर्ज की गई है. दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा जालसाजी और रंगदारी के आरोपी कैदी सुकेश से लगातार पूछताछ कर रही है. उसे पहले दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने जेल से गिरफ्तार किया था. उसके बाद मामले की जांच EOW को सौप दी गई. EOW ने जैसे जैसे जांच को आगे बढ़ाया इस मामले में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए.

दिल्ली पुलिस की EOW रंगदारी के एक मामले की जांच कर रही है. दरअसल तिहाड़ जेल में बंद सुकेश दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 8 अगस्त को गिरफ्तार किया था. इसपर एक बिजनेसमैन से रंगदारी मांगने का आरोप था. रंगदारी भी कोई छोटी मोटी नहीं बल्कि 50 करोड़ रुपये की. पुलिस के मुताबिक रोहिणी जेल में बंद सुकेश चंद्रशेखर को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 8 अगस्त को गिरफ्तार किया था.

सुकेश पर जेल में बैठकर बिजनेसमैन से 50 करोड़ की रंगदारी मांगने का आरोप था. शिकायत मिलने के बाद दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने रोहिणी जेल में छापा मारकर इसे गिरफ्तार किया था. इसके बैरेक से पुलिस को 2 मोबाइल फ़ोन भी मिले थे. उसने खुद को एक बड़ा सरकारी अधिकारी बताकर बिजनेसमैन के खिलाफ शुरू हुई एक इन्क्वारी को सेटल कराने की बात करके पैसा ऐंठ रहा था.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक सुकेश चंद्र स्पूफिंग के जरिये ये कर रहा था. स्पूफिंग के जरिये बड़े सरकारी अधिकारियों का नंबर इस्तेमाल कर बिज़नेस को कॉल करता था. जिसमें पीड़ित को इसका नंबर बताए गए बड़े अधिकारी का ही दिखता था. इससे पहले उसने टीटीवी दिनाकरन को चुनाव चिन्ह दिलाने का झांसा देकर 2 करोड़ रुपये लिए थे. इस मामले के खुलासा होने पर क्राइम ब्रांच ने इसे गिरफ्तार किया था.

जेल के अंदर से चल रहे इस मामले को लेकर जेल प्रशासन ने जेल के 5 अधिकारियों का ट्रांसफर मंडोली जेल कर चुका है. बाद में मनी ट्रेल का पता लगाने के लिए मामले की जांच ईओडब्ल्यू को दी गयी थी. बिज़नेस मैन से रंगदारी मांगने के मामले में गिरफ्तार सुकेश चंद्र शेखर से पूछताछ के बाद दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा अबतक 6 लोगो को गिरफ्तार कर चुकी है. जिनमे से 2 रोहिणी जेल के अधिकारी है. ईओडब्ल्यू के मुताबिक पूछताछ में सुकेश चंद्र शेखर ने इनका नाम बताया है. फिलहाल मनी ट्रेल को लेकर जांच जारी है.

MiG 21 Aircraft Crashes: भारतीय वायुसेना का मिग-21 विमान बाड़मेर में क्रैश, पायलट सुरक्षित

Fake Currency Case: दिल्ली में बरामद नकली नोटों का क्या है ISI कनेक्शन, पढ़ें पूरी खबर

Source link ABP Hindi