तालिबान राज में जुट रहे मोस्ट वांटेड आतंकी, कई सालों बाद अलकायदा के टॉप कमांडर ने की वापसी

Most Wanted Returns: तालिबान की वापसी के बाद अफगानिस्तान दुनियाभर के मोस्ट वांटेड आतंकियों का स्वर्ग बनता हुए दिख रहा है. दुनिया के कुख्यात आतंकी संगठन अलकायदा का टॉप कमांडर अमीन-उल-हक भी अफगानिस्तान लौट आया है और वह भी कई वर्षों के बाद.

अमीन-उल-हक जब आया तो उसके साथ भारी भरकम सुरक्षा के इंतजाम थे वह वह खुद अपनी गाड़ी को ड्राइव कर रहा था. अमीन उल हक के समर्थक, उसके साथ सेल्फी खींचवाने लगे. यह कितना खूंखार है इस बात का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि अमीन-उल-हक अलकायदा का सरगना ओसामा बिन लादेन का सिक्योरिटी इंचार्ज था.

अमीन उल हक 1980 के दशक से ही ओसामा बिन लादेन से जुड़ा हुआ था. जब लादेन दोरा-वोरा की पहाड़ियों में था तब हक उसकी सिक्योरिटी का काम देखता था.  

चीन ने कहा- दुनिया करे तालिबान का मार्गदर्शन 

इधर, चीन ने अमेरिका से कहा है कि अफगानिस्तान की स्थिति में मूलभूत परिवर्तन हुए हैं और “सभी पक्षों” के लिए तालिबान के साथ संपर्क स्थापित करना और उसका “सक्रिय रूप से मार्गदर्शन करना” जरूरी है. चीन ने दोहराया कि अमेरिकी सैनिकों के वापस जाने से अफगानिस्तान में आतंकवादी समूहों को फिर से सिर उठाने का मौका मिल सकता है.

चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने रविवार को अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के साथ टेलीफोन पर बातचीत के दौरान अफगानिस्तान में बिगड़ती स्थिति पर चर्चा की. यह बातचीत 31 अगस्त की समय सीमा से पहले अमेरिका और उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) देशों द्वारा अफगान नागरिकों और राजनयिकों को देश से निकालने के बीच हुई है. वांग और ब्लिंकन ने द्विपक्षीय संबंधों पर भी चर्चा की.

सरकारी समाचार एजेंसी ‘शिन्हुआ’ की खबर के अनुसार चीनी विदेश मंत्री ने कहा कि अफगानिस्तान में स्थिति में मूलभूत परिवर्तन हुए हैं और “सभी पक्षों” के लिए तालिबान के साथ संपर्क बनाना और उसका “सक्रिय रूप से मार्गदर्शन करना” जरूरी है.

ये भी पढ़ें:

Afghanistan Crisis: तालिबान राज में कलाकारों को बनाया जा रहा निशाना, दूसरे देशों में शरण लेने को हुए मजबूर, भारत से लगाई ये गुहार

Open Letter: तालिबान के कब्जे के बाद दुनिया के नाम अफगानिस्तान के पत्रकारों ने लिखा ये खुला खत

Source link ABP Hindi