दिल्ली में अस्पताल में भर्ती मरीजोंं की संख्या कम, स्वास्थ्य मंत्री ने दिया बड़ा बयान

Coronavirus Cases in Delhi: दिल्ली में बढ़ते कोरोना और ओमिक्रॉन के केस को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि प्रतिबंध लगाने की और जरूरत है या नहीं, इसकी समीक्षा की जाएगी. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी होने के बावजूद अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या फिलहाल कम है. सत्येंद्र जैन ने कहा कि कोरोना बेड की स्थिति को देखकर दिल्ली में जीआरएपी के अलगे लेवल को लागू करने पर फैसला लिया जाएगा.

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि शनिवार तक एक्टिव केसों की संख्या 6,360 है. इनमें से सिर्फ 3.5 प्रतिशत यानी 223 मरीज ही अस्पताल में भर्ती हैं. वहीं कुल 247 मरीजों को कोविड बेड दिया गया है, जिसमें से 24 कोरोना संदिग्ध है और 19 मरीज दिल्ली एयरपोर्ट पर कोविड पॉजिटिव पाए गए थे. दिल्ली स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक इनमें से 136 मरीजों को हल्के लक्षण हैं तो वहीं 82 को मध्यम लक्षण हैं और उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट दिया जा रहा है. इसके अलावा 5 मरीजों में गंभीर लक्षण है और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है.

शुक्रवार को बन गई थी ऑरेंज अलर्ट की स्थिति

आपको बता दें कि दिल्ली में शुक्रवार को कोरोना के 1,796 केस मिल थे और पॉजिटिविटी रेट 2. 44 प्रतिशत था. ऐसे में दिल्ली सरकर की जीआरएपी सिस्टम के तहत प्रदेश में ऑरेंज अलर्ट की स्थिति बन गई थी, जो लगातार दो दिनों तक पॉजिटिविटी रेट 2 प्रतिशत से ज्यादा होने पर लागू होना है. इसके अलावा 7 दिनों में 9,000 हजार से ज्यादा केस होने या फिर 7 दिनों में 1,000 मरीजों को बेड देने पर जीआरएपी सिस्टम का लेवल 3 लागू होता है. अगर दिल्ली में ये लागू होता है तो सिर्फ जरूरी सामानों के दुकानों को खोलने की अनुमति होगी. वहीं मेट्रो को बंद कर दिया जाएगा जबकि बसें सिर्फ ऑफिस के कर्मचारियों के लिए चेलगी.

‘येलो अलर्ट’ के तहत लगे प्रतिबंध लागू रहेंगे

इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने बुधवार को यह निर्णय लिया था कि दिल्ली में ‘येलो अलर्ट’ के तहत लगे प्रतिबंध अभी लागू रहेंगे और अधिकारी नए प्रतिबंध लगाने के संबंध में स्थिति पर नजर बनाए रखेंगे. उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों में सिर्फ नाइट कर्फ्यू लागू है, लेकिन दिल्ली में हमने स्कूल और जिम सहित कई जगहों को बंद कर दिया है. दिल्ली में दूसरी लहर के दौरान अप्रैल और मई में बड़ी संख्या में लोग अस्पताल में भर्ती हो रहे थे, लेकिन अब भर्ती होने की संख्या कम है. आगे के प्रतिबंधों की समीक्षा होगी.

दिल्ली में शनिवार को मिले 2,716 केस

सत्येंद्र जैन ने कहा कि वायरस तेजी से फैल रहा है, लेकिन अच्छी बात यह है मामले गंभीर नहीं हैं. संक्रमण का इलाज चाहे वह ओमिक्रॉन वेरिएंट का हो या डेल्टा का, इलाज और रोकथाम पहले वाले ही हैं. लोगों को बहुत आवश्यक होने पर ही बाहर निकलना चाहिए और मास्क पहनना चाहिए. गौरतलब है कि दिल्ली में शनिवार को 2,716 मामले सामने आए हैं. इससे पहले सबसे ज्यादा केस 21 मई 2021 को दर्ज हुआ था, तब 3,009 मामले आए थे.

ये भी पढ़ें-

Coronavirus Cases Today: देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 27 हजार 553 केस दर्ज, ओमिक्रोन से 1525 संक्रमित

Omicron Alert Delhi: कोरोना नियमों की अनदेखी करना पड़ा भारी, दिल्ली की दो मार्केट को किया गया बंद

Source link ABP Hindi