पौष माह से शुरू करें गुरुवार के व्रत, पहली बार रख रहे हैं व्रत तो रखें इन बातों का ध्यान

Brahaspati Vrat Niyam: हिंदू धर्म में हर दिन का नाम उस दिन को समर्पित ग्रह के नाम पर ही रखा गया है. बृहस्पतिवार या गुरुवार का दिन गुरु या बृहस्पति देव को समर्पित है. मान्यता है कि बृहस्पतिवार के दिन बृहस्पति देव की पूजा-अर्चना (Brahaspati Dev Puja) करने से कुंडली में बृहस्पति ग्रह (Brahaspati Grah) मजबूत होता है. गुरुवार का संबंध बृहस्पति देव (Brahaspati Dev) और भगवान विष्णु (Lord Vishnu) से हैं. मान्यता है कि गुरुवार के दिन व्रत (Thursday Vrat) रखने और पूजा आदि करने से व्यक्ति के सभी संकट दूर हो जाते हैं. साथ ही, दुख और विपत्ति पास नहीं आते. 

अगर आप भी गुरुवार के व्रत (Thursday Vrat) शुरू करने की सोच रहे हैं तो इसके लिए पौष माह (Paush Month) का गुरुवार अच्छा माना जाता है. वहीं, इस मास में किसी गुरुवार पुष्य नक्षत्र का संयोग बने तो भी इसे अच्छा माना जाता है. इसके अलावा किसी भी माह के शुक्ल पक्ष के पहले गुरुवार को भी रखा जा सकता है. अगर आप भी पहली बार गुरुवार के व्रत (Thursday Vrat) रख रहे हैं, तो इस दिन भूलकर भी इन गलतियों को न दोहराएं. 

पौष माह से शुरू करें गुरुवार का व्रत  (Thursday Vrat Start From Paush Month)

धार्मिक दृष्टि से पौष माह में गुरुवार व्रत (Thursday Vrat) शुरू करना अच्छा माना जाता है. ये माह भगवान विष्णु (Lord Vishnu) और सूर्य देव (Surya Dev) को समर्पित होता है. इसके अलावा, किसी भी माह के शुक्ल पक्ष के पहले गुरुवार से भी व्रत शुरू किए जा सकते हैं. शास्त्रों के मुताबिक गुरुवार के व्रत लगातार 16 गुरुवार तक विधिवत तरीके से रखना शुभ माना जाता है.  

केले का सेवन न करें (Do Not Eat Bnana On Thursday)

गुरुवार व्रत के दौरान केले के पेड़ की पूजा की जाती है और पूजा के दौरान भगवान विष्णु (Lord Vishnu) को केले समर्पित किए जाते हैं. ऐसे में इस दिन भूलकर भी केला न खाएं. मान्यता है कि केले के पेड़ में भगवान विष्णु (Lord Vishnu) का वास होता है. गुरुवार के दिन केले के पेड़ में जल देना शुभ माना जाता है. 

गुरुवार को करें पीली चीजों का दान (Donate Yellow Things On Thursday) 

गुरुवार व्रत के दौरान गुड़, पीला कपड़ा, चने की दाल और केला भगवान विष्णु को अर्पित करें. और इसके बाद गरीबों के बीच बांटें. मान्यता है कि ऐसा करने से विष्णु भगवान की कृपा बनी रहती है. 

भूलकर भी न काटें बात और नाखून (Do Not Cut Hair And Nails On Thursday)

गुरुवार का व्रत रखने वाले जातक ध्यान रखें कि इस दिन भूल से भी बाल और नाखून नहीं काटें. मान्यता है कि ऐसा करने से कुंडली का बृहस्पति ग्रह कमजोर होता है और आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है. वहीं, गुरुवार के दिन महिलाओं को बाल और कपड़े धोने से बचना चाहिए. 

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Vastu Tips: लक्ष्मी जी की कृपा पाने के लिए नहीं करें किसी खास दिन का इंतजार, कभी भी करें ये उपाय

Wedding Muhurat In 2022: नए साल में 17 जनवरी के बाद फिर बजेंगी शहनाई, ये है सालभर के विवाह मुहूर्त

Source link ABP Hindi