बस्तर में हो सकता है कोरोना विस्फोट, ओमिक्रोन का बढ़ा खतरा

Chhattisgarh News: देश के कई राज्यों में कोरोना ने एक बार फिर से अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया है और इसकी चपेट में बड़ी संख्या में लोग आ रहे हैं. कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के बढ़ते मामले को देखते हुए कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू के साथ लॉकडाउन लगाने की भी स्थिति उत्पन्न हो गई है, लेकिन छत्तीसगढ़ के बस्तर के सीमावर्ती इलाकों में प्रशासन द्वारा ओमिक्रोन के खतरे को लेकर लापरवाही बरती जा रही है. दोनों राज्यों की सीमा पर न कोरोना जांच हो रही है और न ही कोरोना के नियमों का पालन किया जा रहा है. आलम यह है कि छत्तीसगढ़ से लगे ओड़िसा में ओमिक्रोन के 4 मामले आने के बावजूद अब तक छत्तीसगढ़ और ओड़िसा सीमा पर प्रशासन द्वारा किसी तरह से कोई सतर्कता नहीं बरती जा रही है, लिहाजा एक बार फिर से बस्तर में कोरोना विस्फोट होने का खतरा बना हुआ है.

नहीं की जा रही कोरोना जांच

बस्तर जिला प्रशासन द्वारा कोरोना के नये वैरिएंट के खतरे से बचने के लिए सतर्कता बरतने के सारे दावे खोखले साबित हो रहे हैं, एक तरफ जहां जिला प्रशासन के अधिकारी कोरोना के नये वैरिएंट से बचने के लिए पूरे जिले में अलर्ट घोषित करने की बात कह रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ -ओड़िसा की सीमा पर घोर लापरवाही बरती जा रही है. एबीपी न्यूज की टीम ने दोनों राज्यों की सीमा पर मौजूद जांच नाके का निरीक्षण किया और पाया कि सीमा पर बने चेक पोस्ट में स्वास्थ विभाग का कोई भी सदस्य मौजूद नहीं है और न ही यहां ओड़िसा से आने वाले लोगों की कोरोना जांच की जा रही है. 

आलम यह है कि धड़ल्ले से ओड़िसा से सभी लोग बिना जांच कराएं छत्तीसगढ़ के बस्तर में प्रवेश कर रहे हैं वहीं सीमा के चेक पोस्ट पर पुलिस बल को भी तैनात नहीं किया गया है. जानकारी के मुताबिक हाल ही में ओड़िसा में चार ओमिक्रोन से संक्रमित मरीजों के मिलने की पुष्टि हुई है. 

कोरोना विस्फोट का बना खतरा

गौरतलब है कि ओमिक्रोन को लेकर सभी राज्यों में अलर्ट जारी किया गया है, इसके साथ ही प्रदेश के मुख्यमंत्री ने भी कोरोना के इस लहर से निपटने के लिए सारे इंतजाम दुरुस्त करने के लिए निर्देश दिए हैं और खासकर सीमावर्ती इलाकों में सतर्कता बरतने को भी कहा है. बावजूद इसके जिस तरह से छत्तीसगढ़ के बस्तर और ओड़िसा की सीमा पर सारे नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए ओमिक्रोन को न्योता दिया जा रहा है.

क्या है क्लेक्टर का कहना

ऐसे में कोरोना विस्फोट होता है तो बस्तर में ग्रामीणों के साथ- साथ बड़ी संख्या में शहरवासी भी इसकी चपेट में आ सकते हैं. फिलहाल बस्तर के कलेक्टर रजत बंसल का कहना है कि बस्तर के सीमावर्ती इलाकों में प्रशासन की टीम को मुस्तैद किया जाएगा और बकायदा कोरोना जांच भी शुरू की जाएगी. 

इसे भी पढ़ें :

Chhattisgarh News: छत्तीसगढ़ में कई घंटों से लगातार हो रही है बेमौसम की बरसात, सीएम बघेल ने दिए ये निर्देश

Chhattisgarh News: मजदूरों से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटी, कई मजदूर गंभीर, जानें कैसे हुआ हादसा

Source link ABP Hindi