बारिश के कारण कोयले की कमी थी और आयात बंद हो गया था- कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी

रांची: देश के बिजली प्लांट में कोयले की कमी के बीच कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी बुधवार से कोयला संपन्न राज्यों झारखंड और छत्तीसगढ़ के दो दिवसीय दौरे पर हैं. केंद्रीय मंत्री गुरुवार को झारखंड के चतरा पहुंचे. यहां मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कोयले की कमी को बात स्वीकारा. साथ ही उन्होंने अब आगे हालात सुधरने का आश्वासन भी दिया.

कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा,’ बारिश के कारण कोयले की कमी थी और कोयले का आयात बंद हो गया था. कल से हम 2 मिलियन टन कोयले की आपूर्ति कर रहे हैं. हम सभी बिजलीघरों को कोयले की आपूर्ति करने के प्रयास कर रहे हैं, किसी को भी चिंता करने की जरूरत नहीं है. हम कोयले की आपूर्ति करने के लिए सभी प्रयास कर रहे हैं.’

कोल इंडिया की यूनिट का किया निरीक्षण
कोयला मंत्री ने गुरुवार को कोल इंडिया की यूनिट सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड और भारत कोकिंग कोल लिमिटेड के प्रदर्शन की समीक्षा की. यहां निरीक्षण के अपने फोटो ट्वीट करते हुए मंत्री ने कहा, “अपने सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड दौरे के दौरान बछरा रेलवे साइडिंग का निरीक्षण किया, जहां थर्मल पावर स्टेशन को डिस्पैच करने के लिए एक रैक में लोडिंग की जा रही थी. निरीक्षण के दौरान रेलवे वैगनों में समुचित गुणवत्ता और मात्रा में कोयले की लोडिंग करने पर जोर दिया.”

एक अन्य ट्वीट में लिखा, “झारखंड के चतरा जिले में अवस्थित सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड की अशोक ओपनकास्ट कोयला खदान का दौरा किया. 20 MT की सालाना peak-rated क्षमता वाली यह खदान CCL की सबसे बड़ी कोल परियोजनाओं में से एक है. खदान के कामगारों से बातचीत की और उनका कोयला उत्पादन एवं ऑफटेक बढ़ाने के प्रति उत्साहवर्धन किया.”

ये भी पढ़ें-
पंजाब में BSF का एरिया बढ़ाने पर कांग्रेस ने फिर जताया विरोध, केंद्र के आदेश को बताया ध्यान भटकाने वाला कदम

गोवा में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा- देश की सीमाओं पर हमला नहीं किया जाएगा बर्दाश्त

Source link ABP Hindi