बॉस ने ढंग के कपड़े पहनने के लिए दिए पैसे तो नाराज महिला कर्मचारी ने किया केस

Britain: ब्रिटेन में रहने वाली एक महिला ने अपने ऑफिस के बॉस पर केस कर दिया वो भी सिर्फ इसलिए क्योंकि बॉस ने उसे ढंग से तैयार होकर दफ्तर आने को कहा. ब्रिटेन में ये मामला खूब सुर्खियों में है. ब्रिटिश महिला लीसा थॉम्पसन हेयरड्रेसर हैं और एक सैलून में काम करती है. महिला ने एम्प्लॉयमेंट ट्रिब्यूनल में शिकायत करते हुए बॉस पर लैंगिक भेदभाव (Sex Discrimination) का आरोप लगाते हुए शिकायत की थी. बाद में ट्रिब्यूनल ने महिला के आरोप खारिज करते हुए बॉस के पक्ष में फैसला दिया है.

ढंग से तैयार होकर ऑफिस आने के लिए कहने पर केस

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सैलून में काम करने वाली हेयरड्रेसर लीसा थॉम्पसन (Lisa Thompson) एक दिन जब दफ्तर पहुंची तो सैलून के मालिक ल्यूक डेनियल (Luke Daniels) ने उनके बालों और कपड़ों को लेकर सवाल खड़े किए. साथ ही डेनियल ने लीसा थॉम्पसन को 100 पाउंड देते हुए कहा कि वो पहले ढंग के कपड़े खरीदें और अपने बाल को ठीक ढंग से कटवाएं. बताया जा रहा है कि सैलून के बॉस ने उस महिला को मुफ्त हेयर ट्रीटमेंट (Free Hair Treatment) की पेशकश भी की. बॉस के इस व्यवहार की वजह से महिला ने खुद को अपमानित महसूस करते हुए बॉस के खिलाफ केस किया. लीसा थॉम्पसन ने शिकायत में ये भी कहा कि उसके साथ उम्र और लिंग के आधार पर भेदभाव किया गया.

एम्प्लॉयमेंट ट्रिब्यूनल ने दिया बॉस के पक्ष में फैसला

ब्रिटिश महिला ने एम्प्लॉयमेंट ट्रिब्यूनल को बताया कि ल्यूक डेनियल (Luke Daniels) ने बेहद भद्दे तरीके से कपड़ों और बालों को लेकर टिप्पणी की थी. लेकिन ट्रिब्यूनल के सदस्यों ने महिला के सभी आरोपों को खारिज करते हुए बॉस के पक्ष में फैसला दिया. थॉम्पसन ने एम्प्लॉयमेंट ट्रिब्यूनल को बताया कि उनके पैर में चोट लगी थी लेकिन फिर वो सैलून गईं. महिला का आरोप था कि कपड़ों और बालों पर आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद बॉस ने च्यूंगम (Chewing Gum) खाने पर भी उसे रोका. ल्यूक डेनियल ने अपने बचाव में दलील देते हुए कहा कि उन्होंने पेशेवर ढंग से लीसा थॉम्पसन से कहा था कि उन्हें अच्छे से तैयार होकर सैलून आना चाहिए क्योंकि इसकी वजह से सैलून की छवि पर बुरा प्रभाव पड़ता है.

ये भी पढ़ें:

Omicron: अमेरिका-ब्रिटेन से लेकर फ्रांस-पुर्तगाल तक कोरोना का कोहराम, जानें किस देश में एक दिन में आए करीब 2 लाख नए केस

Source link ABP Hindi