भाद्रपद मास की पहली शिवरात्रि कब है? दिन, तिथि और शुभ मुहूर्त जानें

Masik Shivratri 2021 Date: भगवान शिव की महिमा शास्त्रों और पुराणों में विशेष बताई गई है. भगवान शिव को आदि भी कहा गया है. भगवान शिव को भोलेनाथ भी कहा जाता है. भगवान ऐसे देवता हैं, जो अपने भक्त से बहुत आसानी से प्रसन्न हो जाते हैं. भाद्रपद मास में भगवान शिव को प्रसन्न करने और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने का एक विशेष संयोग बन रहा है.

मासिक शिवरात्रि
पंचांग के अनुसार 05 सितंबर 2021, रविवार को भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि है. इस तिथि को मासिक शिवरात्रि का पर्व मनाया जाएगा. मासिक शिवरात्रि का पर्व हर मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है. 

05 सितंबर 2021 का पंचांग
05 सितंबर, रविवार को प्रात: 08 बजकर 23 मिनट और 26 सेकेंड पर चतुर्दशी तिथि का आरंभ होगा. इस दिन पंचांग के अनुसार आश्लेषा नक्षत्र और चंद्रमा कर्क राशि में विराजमान रहेगा. इस दिन परिघ नाम का योग बना हुआ है.

पूजा का मुहूर्त
पंचांग के अनुसार 05 सितंब 2021, रविवार को भगवान शिव की पूजा का शुभ मुहूर्त रात्रि: 11 बजकर 57 मिनट से, 06 सितंबर 2021, सोमवार को प्रात: 12 बजकर 43 मिनट तक बना हुआ है. चतुर्दशी तिथि का समापन, 06 सितंबर को प्रात: 07 बजकर 38 मिनट पर होगा.

भाद्रमास की शिवरात्रि का महत्व
मासिक शिवरात्रि का महत्व शिव भक्तों के लिए विशेष है. इस दिन भगवान शिव की विशेष पूजा अर्चना की जाती है. मान्यता है कि इस दिन विधि पूर्वक पूजा करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों की सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करते हैं. मासिक शिवरात्रि पर भगवान शिव का अभिषेक करने से कष्ट दूर होते हैं. वर्तमान समय में चातुर्मास भी चल रहा है. भाद्रपद मास चातुर्मास का दूसरा मास माना गया है. मान्यता है कि चातुर्मास में भगवान शिव की पूजा करने से शिवजी की विशेष कृपा प्राप्त होती है.

यह भी पढ़ें:
Janmashtami 2021: भगवान श्रीकृष्ण थे, 16 कलाओं के स्वामी, क्या आप इन कलाओं के बारे में जानते हैं? नहीं तो यहां पढ़ें

Chanakya Niti: ये छोटी बातें दोस्ती के रिश्ते को करती हैं कमजोर, जानें चाणक्य नीति

Lakshmi Ji:  27 अगस्त को लक्ष्मी जी की पूजा का बन रहा है, शुभ संयोग, इस दिन करें ये उपाय

 

Source link ABP Hindi