भारत-चीन की सेनाएं एक साथ करेंगी युद्धाभ्यास, SCO देशों का चल रहा ‘पीसफुल मिशन’ एक्सरसाइज

Peace Mission-2021: गलवान घाटी की हिंसा और एलएसी पर चल रहे तनाव के बीच पहली बार भारत और चीन की सेनाएं एक साथ युद्धाभ्यास करेंगी. पिछले साल भारत ने रूस में होने वाली कवाज़ एक्सरसाइज में चीन की भागीदारी के चलते हिस्सा लेने से इंकार कर दिया था. इसके अलावा दोनों देशों का सालाना ‘हैंड इन हैंड’ द्विपक्षीय युद्धाभ्यास भी फिलहाल बंद है.

रूस में जैपाड एक्सरसाइज के समापन के साथ ही अब एससीओ देशों की मल्टी-लेट्रेल एक्सरसाइज शुरू हो गई है. ज्वाइंट काउंटर टेरेरिज्म मिशन के लिए आयोजित होने वाली इस एक्सरसाइज का नाम ‘पीसफुल मिशन’ दिया गया है. खास बात ये है कि एससीओ की एंटी टेरेरिज्म एक्सरसाइज पहले पाकिस्तान में होने जा रही थी, लेकिन भारत ने पाकिस्तान में होने जा रही एक्सरसाइज में हिस्सा लेने से साफ इंकार कर दिया था. हालांकि, भारत और रूस के अलावा ‘पीसफुल मिशन’ में चीन और पाकिस्तान की सैन्य टुकड़ियां भी हिस्सा ले रही हैं.

भारतीय सेना के मुताबिक, रूस के ओरनबर्ग प्रांत में होने जा रही पीसफुल मिशन एक्सरसाइज (11-25 सितंबर) में भारत के कुल 200 सैनिकों की टुकड़ी हिस्सा ले रही है. इस टुकड़ी में भारतीय सेना के सभी ‘आर्म्स’ के सैनिकों सहित वायुसेना के 38 एयर-वॉरियर भी हिस्सा ले रहे हैं. दो आईएल-76 विमानों से ये सभी सैनिक रूस पहुंचे हैं. एक्सरसाइज में हिस्सा लेने से पहले सभी सैनिकों को कड़ी ट्रेनिंग से गुजरना पड़ा है.

एससीओ यानि शंघाई कॉपरेशन ऑर्गेनाइजेशन के सदस्य देशों की ये छठी एक्सरसाइज है, जो हर दो साल में एक बार होती है. एससीओ संगठन में भारत, रूस, चीन, पाकिस्तान, कजाकिस्तान, उजबेकिस्तान, कजाकिस्तान और किर्गिस्तान सहित कुल आठ सदस्य-देश हैं.

एससीओ एक्सरसाइज का उद्देश्य मिलिट्री-इंटरेक्शन के साथ-साथ आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक सहयोग करना है. इसके अलावा सभी देशों की गुड-प्रैक्टिसेस अपनाना है. पीसफुल मिशन एक अर्बन सैटअप में की जानी वाली एक्सरसाइज है, जिसमें एक ज्वाइंट कमान तैयार की जाएगी और आतंकियों के खतरों से निपटने की ड्रिल शामिल है. अभी तक ये साफ नहीं है कि पाकिस्तान में होने वाली पब्बी-एक्सरसाइज अब होगी या नहीं.

इस बीच जैपाड एक्सरसाइज (3-15 सितंबर) का समापन हो गया है. समापन के दौरान सम्मिलत देशों की सैन्य टुकड़ियों ने मार्च पास्ट में हिस्सा लिया और रूस के उप-रक्षामंत्री को गार्ड ऑफ ऑनर पेश किया. इस दौरान भारतीय सेना की टुकड़ी को एक्सरसाइज के दौरान बेस्ट स्पोर्ट्स की ट्राफी पेश की गई.

ये भी पढ़ें: 

जैपाड युद्धभ्यास: भारत-अर्मेनिया की सेना ने दुश्मन पर बोला धावा, राष्ट्रपति पुतिन समीक्षा करने पहुंचे

रूस में आयोजित मल्टीनेशन मिलिट्री एक्सरसाइज, आतंकियों के खिलाफ बड़े ऑपरेशन की हुई ड्रिल, भारतीय सेना ने भी लिया हिस्सा

Source link ABP Hindi