महाराष्ट्र में BMC ‘आश्रय योजना’ की लोकायुक्त करेंगे जांच, ये है मामला

Maharashtra News: महाराष्ट्र में BMC कर्मचारियों के लिए शुरू की गई आश्रय योजना को लेकर राज्य सरकार को झटका लगा है. महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) ने शिवसेना को बड़ा झटका देते हुए BMC की “आश्रय योजना” (Ashray Yojana) की जांच करने के आदेश दिए हैं. राज्यपाल ने इस मामले में महाराष्ट्र के लोकायुक्त को जांच के आदेश दिए हैं. BJP का आरोप है कि 1 हज़ार 800 करोड़ का घोटाला बीएमसी की आश्रय योजना में हुआ है. 

BMC ‘आश्रय योजना’ की जांच के आदेश

BMC के “आश्रय योजना” को लेकर बीजेपी के आरोपों के मुताबिक़ CVC (central vigilance commission) नियमों का उल्लंघन हुआ है. नियम के मुताबिक, अगर किसी टेंडर में कोई एक ही पार्टिसिपेशन हिस्सा लेता है तो टेंडर वापस बुलाना चाहिए लेकिन ऐसा नहीं हुआ है. आश्रय योजना के तहत बीएमसी (BMC) कर्मचारियों के लिए घर बना रही थी.

1800 करोड़ रुपये का घोटाले का आरोप

बीजेपी का आरोप है कि बीएमसी और शिवसेना ने 1800 करोड़ रुपये का घोटाला किया है. बीजेपी ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलकर इस मामले की शिकायत की थी और लोकायुक्त से पूरे मामले की जांच की मांग की गई थी.

ये भी पढ़ें:

UP Election 2022: उत्तर प्रदेश विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, अभी सीट तय नहीं

Source link ABP Hindi