मुरादाबाद: लोगों ने नगर निगम के खिलाफ जमकर की नारेबाजी, अवैध रूप से मकान तोड़ने का लगाया आरोप

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में गुरुवार को जिला अधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन कर लोगों ने नगर निगम के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. प्रदर्शन कर रहे लोगों के समर्थन में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता भी पहुंच गए. प्रदर्शन करने वालों का आरोप है कि नगर निगम ने थाना सिविल लाइंस इलाके के चक्कर की मिलक में अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाने के दौरान पुलिस फोर्स के बल पर उनके मकानों को तोड़कर जमींदोज कर दिया. जबकि उन्होंने रजिस्ट्री करा कर ही अपने मकानों का निर्माण कराया था. प्रदर्शन करने वालों ने जिलाधिकारी को मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन भी दिया. जिलाधिकारी ने पूरे मामले की जांच कराकर न्याय संगत कार्यवाही कराने का आश्वासन दिया है. 

दरअसल नगर निगम मुरादाबाद, बाढ़ खंड विभाग मुरादाबाद की टीम ने मंडलायुक्त के दिशानिर्देश पर 25 अगस्त को थाना सिविल लाइंस इलाके के चक्कर की मिलक में रामगंगा नदी के डूब वाले क्षेत्र में बने मकान और प्लॉट पर हुए निर्माण को अतिक्रमण बताकर भारी पुलिस फोर्स के साथ जाकर जेसीबी मशीन से ध्वस्त कर दिया था. अतिक्रमण हटाओ अभियान के दौरान काफी हंगामा भी हुआ था. लोग अपने मकानों के कागजात नगर निगम की टीम को दिखाते रहे लेकिन नगर निगम अधिकारियों ने किसी की एक नहीं सुनी और 20 से ज्यादा मकानों को तोड़ दिया. इसके विरोध में आज दर्जनों लोगों ने जिलाधिकारी कार्यालय पर आगे नगर निगम और सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर धरना प्रदर्शन किया. 

लोगों के समर्थन में पहुंचे सपा के पूर्व जिला अध्यक्ष

नगर निगम के अतिक्रमण हटाओ अभियान का शिकार बने लोगों के समर्थन में समाजवादी पार्टी के पूर्व जिला अध्यक्ष जयवीर सिंह यादव भी कार्यकर्ताओं के साथ पहुंच गए और उन्होंने धरना प्रदर्शन कर रहे लोगों का समर्थन किया. प्रदर्शनकारी लोगों का आरोप था कि उन्होंने ये जमीन किसानों से रजिस्ट्री के माध्यम से खरीद कर अपनी जिंदगी भर की जमा पूंजी के साथ ही उधार, कर्ज लेकर अपना आशियाना बनाया था. लेकिन नगर निगम के अधिकारियों ने बिना किसी जांच-पड़ताल के बिना कोई नोटिस दिए अभियान चलाकर उनके आशियाने को जमीन में मिला दिया है. प्रदर्शन के दौरान एक बुजुर्ग महिला बेहोश हो गई. जिसे अन्य लोगों ने पानी पिलाया और उन्हें होश में लाया. समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन जिलाधिकारी मुरादाबाद को सौंपा है. जिला अधिकारी शैलेंद्र कुमार सिंह ने प्रदर्शन करने वाले लोगों को आश्वासन दिया है कि वह इस प्रकरण की जांच कराकर न्याय संगत कार्रवाई कराएंगे. 

ये भी पढ़ें :-

बड़ी खबरः हाजीपुर में जहरीली शराब पीने से 5 लोगों की मौत, कई युवकों को PMCH में कराया गया भर्ती

Caste Based Census: जीतन राम मांझी ने उठाए सवाल, ‘नाम में टाइटल लगाकर जाति बताने वालों को डर क्यों?’

Source link ABP Hindi