ये देश कर रहा ‘सूरज’ बनाने की तैयारी

Artificial Sun Time: कोरियाई सरकार कोरिया के पहले आर्टिफिशियल सूरज ‘KSTAR’ को बनाने के लिए टेक्नोलॉजी डिवेलप करने पर काम कर रही है. सरकार 2026 में 300 सेकंड तक के लिए 100 मिलियन डिग्री तापमान मेंटेन करेगी. 300 सेकंड कमर्शियलाइजेशन ऑफ न्यूक्लियर फ्यूजन टेक्नोलॉजी के लिए न्यूनतम जरूरी समय है. मिनिस्ट्री और साइंस एंड आईसीटी ने 30 दिसंबर 2021 को घोषणा की कि उसने कोरिया इंस्टीट्यूट ऑफ फ्यूजन एनर्जी में 16वीं नेशनल फ्यूज समिति का आयोजन किया और ‘4th बेसिक प्लान ऑफ न्यूक्लियर फ्यूजन एनर्जी डिवेलपमेंट (2022-2026)’ को अंतिम रूप दिया। विज्ञान मंत्रालय हर 5 साल में परमाणु संलयन ऊर्जा विकास के लिए अपनी नीतियों के टारगेट और निर्देश निर्धारित करता है.

प्लान के मुताबिक, यह KSTAR एक्सपरिमेंट्स के फील्ड में ऑपरेटिंग टेक्नोलॉजी में सुधार करना जारी रखेगा, जो कि अच्छे रिजल्ट दिखा रहे हैं जैसे कि साल 2021 में यह 30 सेकंड के लिए 100 मिलियन डिग्री तापमान मेंटेने करने में कामयाब रहे थे. वह अब 2026 तक ऐसी तकनीक बनाने में लगे हैं जोकि 300 डिग्री तक टेंपरेचर मेंटेन कर सके.

यह भी पढ़ें: 5G Luanch : नए साल में मिलेगा बड़ा गिफ्ट, इन 13 शहरों में शुरू होगी 5G सर्विस

न्यूक्लिर फ्यूजन मूल सिद्धांत है कि आर्टिफिशियल सूरज रोशनी और गर्मी पैदा करता है। सरकार KSTAR के साथ पृथ्वी पर इस सिद्धांत को कृत्रिम रूप से लागू करके बिजली जैसी बिजली का उत्पादन करने का टारगेट बना रही है। कोरियाई रिसर्च टीम ने पहली बार 2018 में KSTAR को 1.5 सेकंड के लिए 100 मिलियन डिग्री पर सफलतापूर्वक बनाए रखा। यह पिछले साल 20 सेकंड और इस साल 30 सेकंड के लिए 100 मिलियन डिग्री बनाए रखने में भी सफल रहा। पिछले साल के बाद कोरिया ने इस साल दुनिया में सबसे लंबा रिकॉर्ड बनाया है।

यह भी पढ़ें: mAadhaar App: 10 जरूरी काम जो आप एमआधार ऐप से कर सकते हैं, ये रही पूरी लिस्ट

सरकार ने भविष्य के न्यूक्लियर फ्यूजन बिजली उत्पादन के लिए प्रदर्शन की बुनियादी अवधारणाएं भी निर्धारित कीं, और 2030 तक जरूरी नेटवर्क समेत ‘लॉन्ग टर्म  आर एंड डी रोडमैप’ स्थापित करने की प्लानिंग पेश की। इसने भविष्य के न्यूक्लियर फ्यूजन बिजली उत्पादन को प्रदर्शित करने के लिए आवश्यक ‘आठ मुख्य प्रौद्योगिकियों’ का भी चयन किया, जैसे कि उच्च तापमान, लंबे समय तक, और उच्च घनत्व वाली कोर प्लाज्मा टेक्नोलॉजी और ट्रिटियम को बढ़ाने और बिजली का उत्पादन करने के लिए ब्लैंकेट टेक्नोलॉजी। 

यह भी पढ़ें: Welcome 2022: Happy New Year 2022 स्टिकर WhatsApp पर कैसे करें डाउनलोड और सेंड, जानिए पूरा प्रोसेस

Source link ABP Hindi