वर्ष 1547 के बाद इस रक्षा बंधन पर बना है ग्रहों का यह विशिष्ट संयोग, जानें शुभ मुहूर्त

Raksha Bandhan 2021: आज पूरे देश में रक्षा बंधन का त्योहार मनाया जा रहा है. इस बार का रक्षा बंधन बेहद खास है क्यों कि इस दिन वर्ष 1547 के बाद ग्रहों का अद्भुत संयोग बना है. इसके साथ ही इस बार के रक्षा बंधन पर खास मुहूर्त भी है. आज सावन पूर्णिमा, 22 अगस्त 2021 के दिन ग्रहों की जो स्थिति बन रही है, इसके पहले ऐसी स्थति 11 अगस्त 1547 को बनी थी. चूंकि आज रविवार है ऐसे में इन ग्रहों की जो स्थिति और मजबूत हो गई है. पंचांग के अनुसार, श्रावणी पूर्णिमा, आज 22 अगस्त को शाम 5:32 बजे तक रहेगी और ऐसे अदभुत संयोग में इस दिन सबसे पहले भगवान विष्णु को राखी बांधनी चाहिए उसके बाद भाई को राखी बांधें.

Sawan Purnima 2021: सावन पूर्णिमा आज, ये उपाय करने से आएगी समृद्धि, जानें पूजा, विधि और शुभ मुहूर्त

रक्षाबंधन 2021 पर 474 साल बाद बना ये दुर्लभ संयोग

हिंदू पंचाग के अनुसार, साल 2021 के रक्षाबंधन पर सिंह राशि में सूर्य, मंगल और बुध तीनों ग्रह एक साथ विराजमान हैं. जबकि रक्षा बंधन धनिष्ठा नक्षत्र में मनाया जाएगा. सूर्य सिंह राशि के स्वामी ग्रह हैं. मंगल सूर्य के मित्र ग्रह हैं. वहीं इस समय शुक्र कन्या राशि में विराजमान रहेंगे. ग्रहों के ऐसे योग बनने से यह समय अति उत्तम हो जाता है और ग्रहों का यह योग बहुत शुभ माना जाता है. ज्योतिष शास्त्र की गणनाओं के अनुसार, ग्रहों का ऐसा दुर्लभ संयोग रक्षाबंधन पर पूरे 474 सालों के बाद बन रहा है. इससे पहले ऐसा संयोग 11 अगस्त 1547 को बना था.

रक्षा बंधन को करें ये काम 

  • रक्षा बंधन के दिन भद्रा और राहुकाल में राखी नहीं बांधनी चाहिए. भाई और बहन दोनों के लिए अशुभ होता है.
  • रक्षा बंधन के दिन काले रंग का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.
  • राखी बांधते समय भाई भाई का मुख दक्षिण दिशा में नहीं होना चाहिए.
  • रक्षा बंधन के दिन तौलिया या रुमाल उपहार में नहीं देना चाहिए.

Source link ABP Hindi