संपत्ति के लालच में बेटे ने की पिता की हत्या, फिर पुलिस को गुमराह करने के लिए रचि साजिश

गोपालगंज: बिहार के गोपालगंज जिले के सिधवलिया थाने के खजुरिया में हुए किसान जयनारायण साह की हत्या के मामले में एफआईआर दर्ज कराने वाला मृतक का बेटा राजीव कुमार ही कातिल निकला. संपत्ति और अवैध संबंध हत्या की वजह बनी. बीते 22 अगस्त की रात हत्या होने के बाद आरोपित पुत्र ने अपनी पत्नी, ससुर समेत नौ लोगों को आरोपित बनाते हुए एफआईआर दर्ज कराई थी. फिलहाल, पुलिस ने हत्या के आरोपित पुत्र को गिरफ्तार कर लिया है. 

पुलिस को मिले कई सबूत

गुरुवार को चर्चित हत्याकांड का खुलासा करते हुए पुलिस अधीक्षक आनंद कुमार ने बताया कि 22 अगस्त की रात में बथान में सोए जयनारायण साह की धारदार हथियार (दाब) से काटकर हत्या कर दी गई थी. हत्या के बाद सदर एसडीपीओ नरेश पासवान के नेतृत्व में एसआईटी ने जांच शुरू की गई. जांच के दौरान पुलिस को हत्या से जुड़े कई साक्ष्य मिले, जिसके बाद राजीव कुमार की गिरफ्तारी की गई. 

राजीव को शक था कि उसके पिता संपत्ति को बेचकर अवैध संबंध की वजह से महिला को दे सकते हैं. इसलिए उसने बथान में सो रहे पिता की हत्या कर पत्नी समेत अन्य लोगों को फंसाने की साजिश रची. एसपी ने कहा कि शुरुआती जांच के दौरान पुलिस ने नामजद दो आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, जिसे अब बाहर निकालने की प्रक्रिया जारी है. वहीं, हत्या के आरोपित पुत्र के विरुद्ध पुलिस आगे की कार्रवाई में जुटी है. 

पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की

हत्या करने के बाद आरोपित पुत्र राजीव कुमार ने जांच अधिकारियों को गुमराह करने के लिए साजिश रची. पुलिस ने हत्या की तफ्तीश के लिए डॉग स्क्वायड की टीम बुलाई, जिसके बाद दाह-संस्कार में शामिल राजीव कुमार अचानक भूमिगत हो गया. कुछ घंटे बाद राजीव कुमार ने प्रशिक्षु डीएसपी इमरान अहमद को फोन कर कहा, “मेरा अपहरण हो गया है, मैं कहां हूं, पता नहीं है. मुझे बचा लीजिए.” इतना कहते ही राजीव का फोन बंद हो गया.

पिता की हत्या के बाद बेटे का अपहरण कौन कर सकता है, पुलिस फोन कॉल के बाद से हैरान हो गई. राजीव का कॉल ट्रेस किया गया तो लोकेशन बरौली थाना क्षेत्र में मिला. जांच अधिकारियों को राजीव कुमार के भूमिगत होने और अपहरण की झूठी नाटक रचने का उसी समय शक हुआ, जिसके बाद एसआईटी की अलग-अलग टीमें मामले की जांच में जुट गईं. राजीव कुमार को बरौली थाने के जामो रोड से बुधवार को गिरफ्तार किया गया, जिसके बाद पूछताछ की गई. इस दौरान पूरा मामला खुलकर सामने आ गया. 

पत्नी से अवैध संबंध में हत्या की कराई थी एफआईआर

जयनारायण साह की हत्या के मामले में गिरफ्तार आरोपित बेटे राजीव कुमार ने अपनी पत्नी बबीता देवी, असलम खान, बाला साह, शंकर साह, खलील मियां, फारूक अंसारी, पप्पू अंसारी, महबूब अंसारी और जावेद मियां के विरुद्ध थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी. मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. दोनों सब्जी विक्रेता थे. अब पुलिस इन दोनों को बेकसूर मान रही है. 

स्पीडी ट्रायल चलेगी 

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि पिता की हत्या मामले में गिरफ्तार बेटे को सजा दिलाने के लिए स्पीडी ट्रायल चलाने की अनुशंसा की जाएगी. स्पीडी ट्रायल से आरोपित को सजा दिलाई जाएगी. एसपी ने कहा कि यह जघन्य हत्या है, जिसमें पुलिस के पास पर्याप्त साक्ष्य है.

यह भी पढ़ें –

बड़ी खबरः हाजीपुर में जहरीली शराब पीने से 5 लोगों की मौत, कई युवकों को PMCH में कराया गया भर्ती

Caste Based Census: जीतन राम मांझी ने उठाए सवाल, ‘नाम में टाइटल लगाकर जाति बताने वालों को डर क्यों?’

Source link ABP Hindi