साइबर क्राइम रोकने के लिए सख्त हुई पुलिस, धोखाधड़ी रोकने के लिए इतने पुलिस वालों ने ली ट्रेनिंग

Sehore News: मध्य प्रदेश के सीहोर में साइबर अपराधों को जल्द निपटाने के लिए पुलिस ने बड़ा फैसला किया है. जिले में साइबर क्राइम के मामले में अब पीड़ित को पुलिस की मदद के लिए भटकना नहीं पड़ेगा क्योंकि अब हर थाने में जल्द ही साइबर क्राइम हेल्प डेस्क स्थापित किया जाएगा. नवाचार करते हुए एसपी मंयक अवस्थी ने 40 आरक्षकों को ट्रेनिंग दी है जो हर थानों में साइबर पर निगाह रखेंगे. सात से दस जनवरी में इसकी शुरुआत कर होगी. इस सप्ताह के अंत तक थानों में डेस्क बनाने का काम पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं. वहीं एसपी ने थानाप्रभारी, एसडीओपी /सब इंस्पेक्टर को साइबर हेल्प डेस्क का प्रभारी बनाए जाने के भी निर्देश दिए है.

डेस्क में महिला पुलिसकर्मी भी रहेंगी 
जानकारी के मुताबिक साइबर हेल्प डेस्क में दर्ज होने वाले फाइनेंसियल फ्राड मामलों में नोडल साइबर हेल्प डेस्क पीड़ित की फ्रीज की रकम को बैंक खाते में वापस दिलाने में सहायता करेगा. इसके साथ ही डेस्क पर महिला पुलिसकर्मी भी तैनात रहेंगी और साइबर क्राइम गंभीर होने पर थाना प्रभारी/साइबर नोडल अधिकारी को भी प्राथमिकी दर्ज करने की जानकारी दी जाएगी. इसके साथ ही नेशनल साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल के माध्यम से प्राप्त शिकायतों में निर्धारित अवधि में कानूनी कार्रवाई की जाएगी. जबकि थाने में आने वाली साइबर क्राइम की शिकायतों के समाधान में जिला स्तरीय साइबर क्राइम सेल की मदद ली जाएगी.

एसपी मंयक अवस्थी ने कहा सभी थानों में साइबर हेल्प डेस्क इस महीन के पहले सप्ताह तक स्थापित करने का लक्ष्य है और इसके लिए उन्होंने सभी थाना प्रभारी को निर्देश दिए हैं ताकि जनता को जल्द से जल्द राहत मिल सके. अभी तक साइबर अपराध के मामले के लिए निर्धारित थानों में ही रिपोर्ट दर्ज होती थी लेकिन हेल्प डेस्क स्थापित होने के बाद सभी थानों में पीड़ितों की शिकायत दर्ज होगी.

ये भी पढ़ें:

Delhi Omicron Update: दिल्ली में ओमिक्रोन का कहर, बीते 24 घंटे में 31 नए केस आए सामने, संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 350 के पार

Happy New Year 2022: नए साल पर भी राजनीति! जीतन राम मांझी ने लिखा- ‘जय भीम’, पढ़ें नीतीश कुमार और अन्य नेताओं के संदेश

Source link ABP Hindi