साल के पहले दिन ही याद से कर लें ये काम, सालभर नहीं पड़ेगा शनि प्रभाव

Shani Dev Upay: हिंदू धर्म में हर देवी-देवता को हफ्ते का कोई न कोई दिन समर्पित होता है. उस दिन अमूक देवता की पूजा करने से उनका आशीर्वाद प्राप्त किया जा सकता है. शनिवार का दिन शनिदेव (Saturday Shanidev) को समर्पित है. इस दिन शनिदेव और हनुमान जी (Shanidev Hanuman Ji) की पूजा करने से शनि के प्रभावों को कम किया जा सकता है. साल 2022 का पहला दिन (New Year First Day) शनिवार को पड़ रहा है. और साल की शुरुआत भगवान शिव (Lord Shiva) के नाम से होगी. इस दिन मासिक शिवरात्रि (Masik Shivratri 2022) भी है. 

इसलिए नए साल 2022 (New Year 2022) के पहले दिन भगवान शिव(Lord Shiv) के साथ शनिदेव का आशीर्वाद भी प्राप्त किया जा सकता है. शनिदेव को न्याय का देवता माना गया है. अच्छे कर्म करने वालों को शुभ और बुरे कर्म करने वालों को दंड देते हैं. अगर आप भी साल की शुरुआत शनिदेव (Shani Dev Puja On New Year) को प्रसन्न करके करना चाहते हैं, तो साल के पहले दिन शनिवार को ये उपाय (Saturday Remedy) जरूर कर लें. ये उपाय करने से शनिदेव की कृपा जरूर मिलेगी. साथ ही शनि देव (Shani Dev) का प्रभाव भी नहीं पड़ेगा. 

शनिवार को करें ये उपाय (Saturday Rmeedies)

  • इस बार 1 जनवरी 2022, शनिवार के दिन मासिक शिवरात्रि (Masik Shivratri 2022) भी है. ज्योतिषों के अनुसार नियमित तौर पर सोमवार और शनिवार के दिन जल में काले तिल मिलकर शिवलिंग पर अर्घ्य देने से शनि का प्रभाव खत्म होता है. 
  • शनि ढैय्या (Shani Dhaiya) और साढ़ेसाती (Sadesati) से मुक्ति पाने के लिए शनिवार के दिन काले कुत्ते को भोजन अवश्य कराएं. ये काम नए साल से ही कर सकते हैं. नए साल के पहले दिन कुत्ते को रोटी अवश्य खिलाएं.

ये भी पढ़ेंः 

Welcome 2022: नए साल पर इन बातों को जानना है जरूरी, वरना पड़ सकता है पछताना

Welcome 2022: नए साल पर कर्ज मुक्ति और मनचाही नौकरी पाना हो जाएगा आसान, बस कर लें ये उपाय

  • नए साल पर शनिदेव की कृपा पाने के लिए शनिवार को उड़द की दाल, खिचड़ी, सरसों का तेल, छतरी, काले तिल, काले जूते और कंबल आदि चीजों का दान अवश्य करें. ऐसा करने से शनिदेव की कृपा जरूर प्राप्त होगी.  
  • शनिवार के दिन लोहे की चीजों का दान शुभ माना जाता है. इसलिए शनिवार को गरीबों और जरूरतमंदों को लोहे से बनी चीजें अवश्य दान करें.
  • शनिवार के दिन सूर्योदय से पहले उठकर गंगाजल युक्त पानी से स्नान करें. काले रंग के वस्त्र पहनें और शनिदेव की पूजा करें. जल में काले तिल मिलाकर अर्घ्य दें. फिर तिल या सरसों के तेल का दीप जलाकर कुशलक्षेम की विनती करें. इसके बाद शनि चालीसा, शनि स्त्रोत और शनि आरती करने से शनिदेव की कृपा अवश्य प्राप्त होगी. 

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

 

Source link ABP Hindi