सीहोर में ओमिक्रोन संक्रमण से बचाव के लिए प्रभारी मंत्री ने की जरूरी बैठक, दिए निर्देश

Sehore News: जिले में ओमिक्रोन संक्रमण की रोकथाम के लिए आयोजित बैठक में प्रभारी मंत्री डॉ. चौधरी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के माध्यम से निर्देशित किया कि जिले में ओमिक्रोन के संक्रमण को रोकने के लिए पर्याप्त इंतजाम किये जाएं. इसके साथ ही अगर कोई संक्रमित मरीज मिलते हैं तो उनके पर्याप्त इलाज के लिए व्यवस्थाए सुनिश्चित की जाएं. उन्होंने जिले के सभी अस्पतालों में कोविड इलाज के लिए जिला प्रशासन द्वारा की गई व्यवस्थाओं के बारे में विस्तार से जानकारी ली.

तीन जनवरी से किशोरों के लिए टीकाकरण

प्रभारी मंत्री डॉ. प्रभु राम चौधरी ने कहा कि तीन जनवरी से प्रारम्भ होने वाले टीकाकरण अभियान में 15 से 18 वर्ष की आयु वर्ग के सभी बच्चों का टीकाकरण किया जाना सुनिश्चित करें. उन्होंने सभी जनप्रतिनिधियों, समाजसेवियों, धर्मगुरुओं और कोरोना वॉलिंटियर, विलेज क्राइसिस कमेटी के सदस्यों और आम जनता से अपील करते हुए कहा कि टीकाकरण के इस महाअभियान में सभी के सक्रिय योगदान की आवश्यकता है. प्रभु राम चौधरी ने कहा कि टीकाकरण को जन अभियान बनाया जाए. आगामी तीन  जनवरी से जिले के 15 से 18 वर्ष के 92 हजार बालक-बालिकाओं के टीकाकरण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.

कलेक्टर चन्द्र मोहन ठाकुर ने बैठक में जिले भर में कोविड-19 के लिए की गई व्यवस्थाओं के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि जिले में कोविड मरीजों के इलाज के लिए एक बिस्तर सहित दवाओं एवं अन्य उपकरणों की समुचित व्यवस्था की गई है. इछावर विधायक करणसिंह वर्मा एवं सीहोर विधायक सुदेश राय ने प्रभारी मंत्री से चर्चा करते हुए कहा कि सभी जनप्रतिनिधि ओमिक्रोन संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन का सहयोग करेंगे. उन्होंने कहा कि गांव में ग्राम क्राइसिस मैनेजमेंट समिति के सदस्यों को सक्रिय किया जाएगा.  जिससे आवश्यकता पड़ने पर संक्रमण को रोकने में मदद मिल सकें.
 
जिले में ऑक्सीजन प्लांट, कॉन्सट्रेटर एवं वेंटिलेटर की व्यवस्था

गत वर्ष कोविड संक्रमण एवं वर्तमान में  ओमिक्रोन के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए ऑक्सीजन की उपलब्धता बनाए रखने के लिए जिले में पांच ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किए गए हैं, जिसमें चार प्लांट वर्तमान में क्रियाशील है. जिले में 10 लीटर क्षमता वाले 162 एवं पांच लीटर क्षमता वाले 325 ऑक्सीजन कन्संट्रेटर उपलब्ध हैं. इसके साथ ही इंमरजेंसी सेवाओं के लिए जिला चिकित्सालय में कुल 13 वेंटिलेटर की व्यवस्था की गई है. इसी प्रकार जिले में वर्तमान में कुल 324 आइसोलेशन बेड्स उपलब्ध हैं. इसके साथ ही जिले में ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड की क्षमता 418 हैं, जिसमें से जिला चिकित्सालय में 68 बेड्स हैं. वर्तमान में समस्त जिले के शासकीय अस्पतालों में कुल 50 आईसीयू बेड एवं जिला चिकित्सालय में कुल 10 पीआईसीयू बेड्स उपलब्ध हैं.

 बता दें कि  बैठक में एसपी श्री मयंक अवस्थी, जिला पंचायत सीईओ  हर्ष सिंह, अपर कलेक्टर  गुंचा सनोवर, एसडीएम  बृजेश सक्सेना सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी कर्मचारी  उपस्थित थे. 

इसे भी पढ़ें:

Madhya Pradesh News: मिलावटखोरों के खिलाफ जबरदस्त कार्रवाई, कई सलाखों के पीछे ताे कई प्रतिष्ठान सील

Madhya Pradesh News: तीसरी लहर पर सीएम शिवराज ने कहा – किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है प्रदेश

Source link ABP Hindi