सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लड़की बन कर किशोरियों से करता था गंदी बात, अब हुआ गिरफ्तार

Delhi News: दिल्ली के फतेहपुर बेरी थाना पुलिस ने एक ऐसे युवक को गिरफ्तार किया है, जो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लड़की बनकर किशरियों के प्रोफाइल में ताक झांक करता और फिर उन लड़कियों को अपनी बातों के जाल में फंसा कर उनसे दोस्ती कर लेता. आरोपी का नाम अब्दुल समाद(23) है. वह लड़की की आवाज में बात करके सबसे पहले वह किशोरियों का विश्वास जीतता कि वह लड़की ही है. एक बार जब किशोरियों को विश्वास हो जाता कि तो फिर ये फरेबी गंदी बात का सिलसिला आगे बढ़ाते हुए किशोरियों के अश्लील वीडियो और फोटो मंगवा लेता. जब इस जालसाज की असलियत किशोरियों को पता चलती, तो ये उन पर दबाव बनाने के लिए अश्लील वीडियो और फोटो को वायरल करने की धमकी देता.

दिल्ली पुलिस का कहना है कि फिलहाल उनके पास इस जालसाज की सताई हुई 15 साल की एक किशोरी सामने आई है, जिसकी शिकायत के आधार पर एफआईआर दर्ज करने के बाद इस युवक को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने उम्मीद जताई है कि आने वाले समय में इस युवक के सताई और भी किशोरियां या लड़कियां सामने आ सकती हैं.

क्या है मामला?
साउथ डिस्ट्रिक के डीसीपी अतुल ठाकुर ने बताया कि 27 जुलाई को 15 साल की एक किशोरी अपने परिजनों के साथ फतेहपुर बेरी थाने पहुंची. उसने लिखित शिकायत देते हुए बताया कि उसने पिता के मोबाइल फोन पर इंस्टाग्राम आईडी बनाई थी. सोशल मीडिया के इस प्लेटफार्म पर वह एक अनजान लड़की के संपर्क में आई. ये अंजाम लड़की इस तरह से बात करती जैसे पीड़िता की बड़ी बहन हो. 

वह इस तरह से बात करती ” कैसी हो छोटी, कैसी हो गुड़िया”. एक महीने बाद उसने किशोरी को कुछ अश्लील तस्वीरें और वीडियो भेजे. दावा किया कि ये वीडियो और फोटो उसके हैं. बाद में उसने पीड़िता से भी इस तरह की वीडियो/फोटो भेजने के लिए कहा. पीड़ित लड़की ने विश्वास करते हुए उस संदिग्ध लड़की को अश्लील तस्वीरें और वीडियो भेज दिए. इसके बाद वह उसके साथ वाट्सएप पर वीडियो कॉल करने लगी. लेकिन वह संदिग्ध लड़की कॉल के दौरान अपनी शक्ल नहीं दिखाती थी. 

इस वजह से पीड़ित किशोरी ने उसकी अनदेखी शुरु कर दी. उसके कॉल रिसीव करना बंद कर दिया. जिसके बाद वह संदिग्ध लड़की उसके द्वारा भेजी गई अश्लील तस्वीरों और वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी देने लगी. पीड़िता ने अपनी एक फ्रैंड को सारी बात बताई. एक नए नम्बर से उस संदिग्ध लड़की को वीडियो कॉल की गई. इस बार कॉल किसी पुरुष ने रिसीव किया. जिसके बाद किशोरी ने अपने परिजनों को सब कुछ बता दिया और मामले की शिकायत पुलिस से की गई. पुलिस ने पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की.

ऐसे की गई गिरफ्तारी
फतेहपुर बेरी के एसएचओ इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह की टीम ने मामले की जांच शुरु की. पुलिस ने वाट्सएप और इंस्टाग्राम को नोटिस भेज कर संदिग्ध व्यक्ति के मोबाइल नंबर और आईडी की डिटेल मांगी. इंस्टाग्राम ने कुछ आईपी एड्रेस पुलिस को उपलब्ध करवाए. पुलिस को जांच में पता चला कि संदिग्ध लड़की ने कुछ अन्य इंस्टाग्राम आईडी बनाये हुए हैं. पुलिस ने उनकी डिटेल भी हासिल की. 

पुलिस को सुराग मिला कि ये फर्जी प्रोफाइल लखनऊ से चलाए जा रहे हैं. पुलिस टीम ने वहां जाकर टैक्नीकल सर्विलांस की मदद से एक युवक को उसके घर से पकड़ लिया. जिसकी पहचान अब्दुल समाद के रूप में की गई. आरोपी ने बताया कि वह कम उम्र की लड़कियों से बात कर उनके अश्लील फोटो और वीडियो देखता था. ऐसा करने के लिए वह लड़की बन जाता था. आरोपी दसवीं तक पढा है. उसे इंटरनेट सोशल मीडिया साइट्स में बेहद दिलचस्पी है. 

इन साइट्स को कैसे ऑपरेट करना है, ये सब वह यूट़्यूब पर सीखता था. “टैस्ट नाओ” जैसे एप की मदद से वह आरोपी लड़कियों से इंटरनेशनल नंबर से मैसेज और वीडियो कॉल करता था. वह खुद को कनाडा बेस्ड एनआरआई बताता था. उसके मोबाइल से कई लड़कियों के अश्लील वीडियो और फ़ोटो बरामद किए गए हैं.

दिल्ली की 13 साल की नाबालिग के साथ गुरुग्राम में हैवानियत, रेप के बाद की हत्या, पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे कांग्रेस नेता

Source link ABP Hindi