खास तेल से भगाएं घर के कीड़े-मकोड़े, ऐसे रहेगी घर में हाईजीन

कई बार बारिश के दिनों में कीड़े-मकोड़े घर की समस्या बन जाते हैं. ये समस्या उन घरों के लिए और भी बड़ी हो जाती है, जहां छोटे बच्चे होते हैं. घर की सफाई के बावजूद उनसे छुटकारा पाना घरवालों के लिए काफी दुश्वार हो जाता है. लेकिन कुछ लोग हो सकते हैं कि इन जहरीले कीड़े-मकोड़ों को हटाने के लिए घर में रेपेलेंट बच्चों और उनके स्वास्थ्य को देखते हुए नहीं लाना चाहते होंगे. अगर आप भी कीड़े-मकोड़ों को दूर भगाने के लिए जहरीले कीटनाशकों का इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं, तब आप खास प्रकार के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं.  

पुदीने का तेल- कीटनाशक के तौर पर आप पुदीने के तेल को भी इस्तेमाल में ला सकते हैं. ये तेल चींटियों, मकड़ियों और उड़ने वाले कीड़ों को दूर करने में आपकी मदद करेगा. इसके लिए आप पानी में पुदीने का तेल मिलाकर घर में छिड़काव करें. आप इस तेल को कपास की गेंद में डालकर दरवाजों और खिड़कियों के पास रख दें. 

नीम का तेल- आप कीड़े-मकोड़ों से छुटकारा के लिए नीम का तेल इस्तेमाल कर सकते हैं. उसमें एंटी फंगल और बैक्टीरिया रोधी तत्व होते हैं जो घर से कीड़े-मकोड़ों को दूर करने में मदद करेंगे. इसके लिए, आधा बाल्टी पानी में सात से आठ चम्मच नीम का तेल मिक्स करें और इससे फर्श पर पोछा करें. लेकिन अगर आप उसका इस्तेमाल दिन में कई बार करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको एक स्प्रे बोतल को दो ग्लास पानी में सात-18 चम्मच नीम का तेल मिलाकर भरना होगा. फिर इसका समय-समय पर घर पर छिड़काव करते रहें. 

चाय के पेड़ का तेल- मकड़ी, मक्खियां और तिलचट्टों समेत कीड़े-मकोड़ों को भगाने के लिए चाय के पेड़ का तेल इस्तेमाल करें. इस तेल में बैक्टीरिया रोधी और सूजन रोधी गुण पाए जाते हैं, जिसके कारण कीट-पतंग भागेंगे. उसके लिए, दो ग्लास पानी में दो चम्मच चाय के पेड़ का तेल मिक्स करें. फिर उसे स्प्रे बोतल में भरकर घर में छिड़काव करें. अगर आप चाहते हैं, तो उसका छिड़काव किचन के काउंटर और कपड़ों पर भी कर सकते हैं. 

Alert! सोने के समय की इन खतरनाक आदतों को फौरन क्यों रोकना है जरूरी? जानिए

वजन कम करने के लिए रस्सी कूद या दौड़ने में से कौनसा विकल्प है ज्यादा बेहतर? जानिए

डिस्कलेमर- लेख में दी गई ये जानकारी सामान्य धारणाओं पर आधारित है. एबीपी न्यूज इसकी पुष्टि नहीं करता है. नुस्खा अपनाने से पहले कृप्या संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें. 

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*