फ्रांस में शुरू हुई राफेल सौदे की जांच पर कांग्रेस ने मोदी सरकार को घेरा

नई दिल्ली: फ्रांस में भारत के साथ हुए 36 राफेल विमानों के सौदे में भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच शुरू हुई तो यहां कांग्रेस को नए सिरे से मोदी सरकार को घेरने का मौका मिल गया. कांग्रेस ने एक बार फिर संयुक्त संसदीय समिति यानी जेपीसी से राफेल सौदे की जांच करवाए जाने की मांग की है. कांग्रेस आगामी संसद सत्र में भी इस मामले को उठाएगी.

कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि फ्रांस में राफेल सौदे की जांच शुरू होने और इस मामले में ताजा खुलासों से भ्रष्टाचार का पर्दाफाश हो गया है. साथ ही कांग्रेस और राहुल गांधी की बात सही साबित हुई है. सुरजेवाला ने सवाल किया कि क्या प्रधानमंत्री मोदी जेपीसी जांच करवाएंगे?

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि बीते 14 जून को फ्रांस के पब्लिक प्रोजेक्यूशन सर्विस पीएनएफ ने राफेल सौदे में भ्रष्टाचार और नाजायज तरीके से प्रभाव डालने की जांच शुरू कर दी है. इसमें फ्रांस के पूर्व और मौजूदा राष्ट्रपति आदि की जांच होगी साथ ही अनिल अम्बानी की कंपनी रिलायंस भी जांच के घेरे में है.

मौजूदा सरकार ने इसे कई गुना रेट ज्यादा पर खरीदा- सुरजेवाला

सुरजेवाला ने कहा कि राफेल एक अच्छा जहाज है. कांग्रेस इसका सौदा कम रेट पर कर रही थी लेकिन मौजूदा सरकार ने इसे कई गुना रेट ज्यादा पर खरीदा. जब राहुल गांधी ने इस पर सवाल उठाए तब सरकार ने जवाब देने की बजाय मजाक उड़ाया. हम अदालत नहीं गए क्योंकि अदालत इसकी जांच करने में सक्षम नहीं है.

जब फ्रांस ने प्रथम दृष्टि से गड़बड़ी मान कर जांच बिठा दी तब जिस देश में असल में घोटाला हुआ क्या वहां जांच नहीं होनी चाहिए? सुरजेवाला ने कहा कि यह बीजेपी बनाम कांग्रेस नहीं राष्ट्रहित का मामला है. इसलिए कौन दोषी है इसके खुलासे के लिए जेपीसी जांच होनी चाहिए.

फ्रेंच वेबसाइट मीडिया पार्ट के हवाले से सुरजेवाला ने कहा कि राफेल खरीद में भारत सरकार ने दसॉल्ट और फ्रांस सरकार के कहने पर रक्षा सौदों में अनिवार्य भ्रष्टाचार विरोधी नियमों को भी हटा दिया जिससे संदेह और बढ़ जाता है.

राफेल सौदे में भ्रष्टाचार की परतें खुल चुकी हैं- सुरजेवाला

मोदी सरकार को घेरते हुए कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि राफेल सौदे में भ्रष्टाचार की परतें खुल चुकी हैं. सरकारी खजाने को चूना लगाना और देशहित का विरोध सामने आ चुका है. सवाल यह है कि क्या प्रधानमंत्री मोदी सामने आ कर राफेल घोटाले की जांच जेपीसी से करवाएंगे?

बीते लोकसभा चुनाव में राफेल सौदे में भ्रष्टाचार का आरोप लगा कर मोदी सरकार पर जम कर हमला बोलने वाले कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा “चोर की दाढ़ी #RafaleScam” .

हालांकि बीजेपी पहले ही राहुल गांधी के आरोपों को खरिज कर चुकी है. राफेल सौदे पर सरकार को सुप्रीम कोर्ट से भी क्लीन चिट मिल चुकी है. सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि लोकसभा चुनाव में जनता ने भी कांग्रेस के आरोपों और “चौकीदार चोर है” के नारे को तवज्जो नहीं दी. लेकिन फ्रांस में शुरू हुई जांच में अगर भ्रष्टाचार के आरोप साबित होते हैं तो फिर मोदी सरकार के लिए जवाब देना मुश्किल हो सकता है.

यह भी पढ़ें.

गर्भवती महिलाएं लगवा सकती हैं वैक्सीन, CoWIN रजिस्ट्रेशन और वॉक-इन की दी गई इजाजत

मुख्यमंत्री बनते ही सुर्खियों में आ गए थे तीरथ सिंह रावत, जानिए- वो बयान जिन पर खूब मचा बवाल

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*