मॉडर्ना वैक्सीन इस हफ्ते पहुंच सकती है भारत, जानें डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ कितनी है कारगर

कोरोना के खिलाफ सबसे मजबूत हथियार वैक्सीनेशन अभियान में तेजी लाते हुए लगातार इसे ज्यादा से ज्यादा संख्या में सरकार की तरफ से वैक्सीनेट करने का प्रयास किया जा रहा है. इसी कड़ी में अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना की तरफ से तैयार वैक्सीन इस हफ्ते भारत पहुंच सकती है. समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी है.

औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने सिप्ला आपात उपयोग के लिए मॉडर्ना के कोविड-19 टीके के आयात की अनुमति दे दी है. कोविशील्ड, कोवैक्सीन और स्पूतनिक के बाद मॉडर्ना का टीका भारत में उपलब्ध होने वाला कोविड-19 का चौथा टीका होगा. एक सूत्र ने बताया, ‘‘डीसीजीआई ने ड्रग्स ऐंड कॉस्मेटिक्स एक्ट,1940 के तहत नयी औषधि एवं क्लिनिकल परीक्षण नियम, 2019 के प्रावधानों के मुताबिक सिप्ला को देश में सीमित आपात उपयोग के लिए मॉडर्ना के कोविड-19 टीके का आयात करने की अनुमति दे दी है.’’

ऐसे समय में जब लगातार दुनिया में कोरोना का नया डेल्टा वेरिएंट फैल रहा है, ऐसे में यह जानना जरूरी है कि मॉडर्ना वैक्सीन इस वैरिएंट के खिलाफ कितना असरदार है. मॉडर्ना वैक्सीन क्लिनिकल ट्रायल के दौरान अमेरिका में तीसरे चरण में 94 फीसदी असरदार पाई गई गई. लेकिन इसे काफी कम तापमान में रखने की जरूरत पड़ती.  

  

मॉडर्ना ने एक पत्र में 27 जून को डीसीजीआई को सूचना दी कि अमेरिकी सरकार यहां उपयोग के लिए कोविड-19 के अपने टीके की एक विशेष संख्या में खुराक ‘कोवैक्स’ के जरिए भारत सरकार को दान में देने के लिए सहमत हो गई है. साथ ही, उसने इसके लिए केन्द्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) से मंजूरी मांगी है.

ये भी पढ़ें: संजय राउत ने कही बड़ी बात, ‘शिवसेना-बीजेपी दुश्मन नहीं, रास्ते अलग हैं पर दोस्ती बरकरार’

 

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*