राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को मिली केंद्र सरकार से 38 करोड़ से अधिक कोरोना वैक्सीन

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने अब तक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 38 करोड़ 60 लाख कोरोना वैक्सीन डोज दी है. जिसमें से 37 करोड़ 16 लाख से ज्यादा डोज दी जा चुकी हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक राज्यों के पास 1 करोड़ 44 लाख से ज्यादा वैक्सीन डोज बची है. वहीं अगले तीन दिनों 11 लाख से ज्यादा वैक्सीन डोज दी जाएंगी.

भारत सरकार द्वारा मुफ्त चैनल के माध्यम से और प्रत्यक्ष राज्य खरीद श्रेणी के माध्यम से अब तक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 38,60,51,110 से ज्यादा  वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं. जिसमें से कुल 37,16,47,625 डोज 11 जून सुबह 8 बजे तक दी गई है जिसमें मेडिकल वेस्टेज भी शामिल है.

11,25,140 से ज्यादा वैक्सीन डोज पाइपलाइन में हैं

वहीं राज्यों के पास 1,44,03,485 कोरोना वैक्सीन की डोज अभी उपलब्ध हैं जिन्हें दिया जाना है. वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक 11,25,140 से ज्यादा वैक्सीन डोज पाइपलाइन में हैं और अगले 3 दिनों के अंदर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों मिल जाएंगी.

भारत मे अब तक 37 करोड़ 60 लाख से ज्यादा वैक्सीन डोज दी जा चुकी है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक शुक्रवार सुबह तक 37,60,32,586 वैक्सीन डोज दी जा चुकी है जिसमें  30,31,71,498 लोगों पहली डोज दी जा चुकी है जबकि 7,28,61,088 दोनो डोज दी जा चुकी है. पिछले 24 घंटो में यानी 10 जुलाई को 37,23,367 वैक्सीन डोज दी गई.

आज सुबह तक CoWin पोर्टल पर उपलब्ध डेटा के मुताबिक  भारत में 19,90,94,535 पुरुषों को और 17,21,08,180 महिलाओं को वैक्सीन डोज दी गई है. जिसमें से कोविशील्ड की 32,50,18,471 डोज है, कोवैक्सीन की 4,60,68,139 और स्पुतनिक की 1,81,395 डोज दी जा चुकी है.

देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 3,08,37,222 हो गई है

भारत में पिछले 24 घंटो में 41,506 नए मामले सामने आए है और 895 लोगों की मौत हुई है. इसके साथ ही भारत मे कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 3,08,37,222 हो गई है जिसमे से 2,99,75,064 लोग संक्रमण से पूरी तरह ठीक हो चुके है जबकि 4,08,040 मरीजों की मौत हो चुकी है. देश मे एक्टिव केस यानी वो मरीज जिनका इलाज चल रहा है उनकी संख्या 4,54,118 है जोकि कुल मामलों का 1.47% है. वहीं रिकवरी रेट यानी कोरोना संक्रमण से ठीक होने की दर 97.20% है जबकि मृत्यु दर 1.32% है.

देशव्यापी टीकाकरण अभियान 16 जनवरी  को शुरू किया गया था और फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण 2 फरवरी से शुरू हुआ था. कोरोना टीकाकरण के अगले चरण की शुरुआत 1 मार्च से शुरू हुआ था जिसमे 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के साथ 45 साल से ज्यादा उम्र के लोग जिन्हें गंभीर बीमारी है उनका टीकाकरण शुरू हुआ था. वहीं 1 अप्रैल से 45 साल से ज्यादा उम्र के हर व्यक्ति को टीकाकरण शुरू किया गया था. 1 मई से 18 से 44 साल के लोगों का टीकाकरण शुरू हुआ था. जबकि 21 जून से 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को मुफ्त टीकाकरण की शुरुआत शुरू हुआ था.

यह भी पढ़ें.

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को मिली बड़ी कामयाबी, 2500 करोड़ रुपये की हेरोइन के साथ चार गिरफ्तार

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*