रुद्रप्रयाग में आफत बनकर बरस रही है बारिश, नदियों का बढ़ा जलस्तर

Heavy Rain in Rudraprayag: उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में बारिश आफत बनकर बरस रही है. पिछले दो दिनों से जिले के ऊंचाई वाले इलाकों से लेकर निचले क्षेत्रों में जमकर बारिश हो रही है. ऐसे में एक ओर जहां लोगों को गर्मी से निजात मिली है, वहीं केदार घाटी में ठंड भी महसूस की जा रही है. इसके अलावा बारिश के कारण नुकसान भी हो रहा है, जिससे लोगों को खासी दिक्कतों से गुजरना पड़ रहा है. बारिश के कारण मंदाकिनी और अलकनंदा नदियों का जलस्तर काफी बढ़ गया है, जबकि ऋषिकेश-बद्रीनाथ हाईवे भी रुद्रप्रयाग और श्रीनगर के बीच जगह-जगह बंद होने से लोग परेशान हैं. केदारनाथ हाईवे भी बारिश से कई जगहों पर डेंजर जोन में तब्दील हो गया है. 

बारिश की वजह से हो रहा है नुकसान 
रुद्रप्रयाग जिले में पिछले दो दिनों से लगातार बारिश हो रही है. बारिश की वजह से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. लगातार हो रही बारिश के कारण जहां एक ओर निचले इलाकों में गर्मी से निजात मिली है तो वहीं केदार घाटी में ठंड महसूस की जा रही है. बारिश के कारण महिलाएं जंगल नहीं जा पा रही हैं जिसकी वजह से जानवरों को चारा नहीं मिल पा रहा है. ऋषिकेश-बद्रीनाथ हाईवे रुद्रप्रयाग और श्रीनगर के बीच जगह-जगह बंद पड़ा है, जिस कारण राजमार्ग पर सैकड़ों की संख्या में लोग फंसे हुए हैं. राजमार्ग के सिरोबगड़ और धारी कलियासौड़ के पास भारी मात्रा पर मलबा आया हुआ है, जिसे मशीनें हटाने में लगी हैं. केदारनाथ हाईवे पर भी बारिश से काफी नुकसान हो रहा है. 

नदियों का बढ़ा जलस्तर 
मूसलाधार बारिश से हाईवे कई जगहों पर डेंजर जोन बन गया है. हाईवे पर पहाड़ियों से पत्थर बरसात की तरह गिर रहे हैं. ऐसे में आवागमन करने वाले यात्रियों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. बारिश से मंदाकिनी और अलकनंदा नदियों को जलस्तर भी बढ़ गया है. हालांकि, अभी दोनों नदियां खतरे के निशान से नीचे बह रही हैं. बारिश से लिंक मार्ग भी बंद हो गए हैं, जहां लोक निर्माण विभाग की मशीनें कार्य में जुटी हुई हैं.

ये भी पढ़ें:

Uttarakhand: केजरीवाल के मुफ्त बिजली के वादे पर बीजेपी ने उठाया सवाल, कहा- यहां भी झूठ बोल रहे हैं

लखनऊ से गिरफ्तार आतंकियों से बड़ा खुलासा, बम बनाने में माचिस की तीलियों के बारूद का किया था इस्तेमाल

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*