कम ब्याज दर पर लेना चाहते हैं होम लोन, इन टिप्स को अपनाएं

Home Loan at Low Interest Rate: होम लोन मिल जाने के बाद उसे चुकाना एक बड़ा सवाल होता है. कई बार यह देखा जाता है कि किसी एक व्यक्ति को कम ब्याज दर पर जबकि किसी दूसरे व्यक्ति को अधिक ब्याज दर पर होम लोन मिलता है. दरअसअल होम लोन की ब्याज दर लोन अमाउंट और सिबिल स्कोर सहित कई बातों पर निर्भर करती है. जानते हैं ऐसे क्या तरीके अपनाएं जाएं जिससे होम लोन की ब्याज दर कम हो सके.

अच्छा क्रेडिट स्कोर दिलाएगा सस्ता लोन

  • किसी भी व्यक्ति का क्रेडिट स्कोर रीपेमेंट हिस्ट्री, क्रेडिट इस्तेमाल का अनुपात, मौजूदा लोन और बिलों के समय पर पेमेंट से पता चलता है.
  • आपको होम लोन कितनी आसानी से मिलेगा या कितनी ब्याज दर पर मिलेगा यह तय होने में क्रेडिट स्कोर की अहम भूमिका होती है.
  • अगर आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा है तो आपको आसानी से कम ब्याज दर पर लोन मिल जाएगा.

महिला कर्जदार को मिलता है सस्ता लोन

  • कोशिश करें की होम लोन महिला के नाम पर लिया जाए क्योंकि महिलाओं को पुरूषों के मुकाबले सस्ता होम लोन मिलता है.
  • महिलाओं को 5 बेसिस प्वॉइंट सस्ता होम लोन मिलता है.
  • आप चाहें तो परिवार की किसी महिला के साथ मिलकर ज्वॉइंट होम लोन ले सकते हैं. इससे भी कम ब्याज पर लोन मिलेगा.

जरुरत न हो तो ज्यादा लोन नहीं लें

  • लोन अमाउंट भी ब्याद दर तय करने में भूमिका निभाता है.
  • आपके लोन की ब्याज दर आपके लोन अमाउंट के हिसाब से रहती है.
  • लोन अमाउंट जितना ज्यादा होगा ब्याज दर भी उतनी ही ज्यादा होगी.
  • लोन उतना ही लेना चाहिए जितनी आपको जरुरत हो.

उम्र और नौकरी

  • नौकरीपेशा वेतनभोगियों को बैंक जल्दी और कम ब्याज पर लोन देते है. उन्हें यहां पैसा वापस मिलने की जल्दी संभावना दिखती है.
  • अधिक उम्र के लोगों को बैंक ब्याज देने में हिचकिचात हैं या फिर ज्यादा ब्याज दर पर लोन लेते हैं.

अपने बैंक से लें लोन

  • आपका खाता जिस बैंक में हो उस बैंक से लोन लेना सही रहता है.
  • बैंक अपने रेगुलर कस्टमर्स को कम ब्याज पर और आसानी से लोन उपलब्ध कराते हैं.

इंटरेस्ट प्लान का रखें ध्यान

  • बैंक 3 तरह के इंटरेस्ट प्लान-फिक्स्ड इंटरेस्ट, फ्लोटिंग इंटरेस्ट और फ्लेक्सी इंटरेस्ट ऑफर करते हैं.
  • यह तीनों इंटरेस्ट प्लान भी ब्याज दर पर असर डालते हैं.
  • फिक्स्ड होम लोन प्लान में बैंक से एक तय रेट पर होम लोन मिलता है.
  • फ्लोटिंग होम लोन प्लान में ब्याज बैंक के बेस रेट से लिंक्ड होता है. बेस रेट में बदलाव होने से ब्याज दर घट या बढ़ जाती है.
  • फ्लेक्सी होम लोन प्लान फ्लोटिंग और फिक्स्ड प्लान का मिला जुला रूप है. इसमें ग्राहक अपनी जरूरत अनुसार लोन अवधि के बीच में अपना प्लान फिक्स्ड या फ्लोटिंग में बदलवा सकता है.
  • आप इंटरेस्ट प्लान का चयन करने से पहले किसी विशेषज्ञ की सलाह भी ले सकते हैं.

यह भी पढ़ें:

EPF: अगर आपके पास है एक से अधिक UAN नंबर, तो न हों परेशान, पुराने UAN को ऐसे कराएं डिएक्टिवेट

Health Insurance: बीमा कॉन्ट्रैक्ट की इन बारिकियों को समझना है जरूरी, नहीं तो आगे होगी परेशानी

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*