केशव मौर्य बोले- अगली बार जनता से कराए जाएंगे जिला पंचायत अध्यक्षों व ब्लॉक प्रमुखों के चुनाव

Uttar Pradesh Deputy CM Keshav Prasad Maurya: यूपी में जिला पंचायत अध्यक्षों और ब्लॉक प्रमुखों के अगले चुनाव सदस्यों के बजाय सीधे जनता से कराए जा सकते हैं. ऐसा होने पर चुनाव में धनबल व बाहुबल के बल पर कुर्सी हथियाने की संभावना कम हो जाएगी और साथ ही जनता जिले के अपने सबसे पहले नुमाइंदे को खुद अपनी पसंद के आधार पर चुन सकेगी. इस बारे में सूबे के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि इन बेहद अहम पदों का चुनाव सीधे जनता से नहीं होने की वजह से कई बार हालात ऐसे हो जाते हैं, जिन्हे बेहतर नहीं कहा जा सकता. उनके मुताबिक़ सरकार की यह कोशिश रहेगी कि अगला चुनाव सदस्यों के बजाय सीधे जनता के ज़रिये कराया जाए.

प्रयागराज में नव निर्वाचित जिला पंचायत अध्यक्ष डॉ. वीके सिंह के शपथ ग्रहण समारोह में उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने इसी बार के चुनाव को लोकसभा-विधानसभा और मेयर की तर्ज पर सीधे जनता के वोट से कराए जाने की कोशिश की थी, लेकिन समय कम होने और कोरोना की महामारी के चलते इस बार यह मुमकिन नहीं हो सका. प्रयागराज के शपथ ग्रहण समारोह में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने जिला पंचायत की नई टीम को बधाई दी और उम्मीद जताई कि नये अध्यक्ष व सदस्य बिना किसी भेदभाव के पूरी ईमानदारी व सक्रियता के साथ विकास की गंगा बहाएंगे. इस मौके पर उन्होंने प्रयागराज में अपने स्तर से कराए जा रहे विकास कार्यों के बारे में भी लोगों को बताया.

विपक्ष को तुष्टिकरण की राजनीति नहीं करनी चाहिए- डिप्टी सीएम

शपथ ग्रहण समारोह में शिरकत करने के बाद मीडिया से बात करते हुए डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने राजधानी लखनऊ में कल एटीएस की टीम द्वारा अलकायदा के दो आतंकियों की गिरफ्तारी को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती के ट्वीट पर पलटवार करते हुए उन्हें जवाब दिया है. उन्होंने कहा कि आतंकवाद और देश की सुरक्षा के मामले में मायावती समेत विपक्ष के दूसरे नेताओं को तुष्टिकरण की राजनीति नहीं करनी चाहिए. उनके मुताबिक़ ऐसे मामलों को कतई चुनावी व सियासी चश्मे से नहीं देखना चाहिए. उन्होंने कहा है कि सरकार इस मामले में सख्त कार्रवाई कर रही है. इस कार्रवाई को लेकर किसी को कोई संदेह नहीं होना चाहिए.

गौरतलब है कि बीएसपी सुप्रीमों मायावती ने ट्वीट कर यह आशंका जताई थी कि चुनाव से कुछ महीनों पहले हुई यह कार्रवाई राजनीति से प्रेरित भी हो सकती है. डिप्टी सीएम केशव ने नई जनसंख्या नीति को लेकर विपक्ष की आलोचनाओं को दरकिनार करते हुए कहा है कि विपक्ष को इसे चुनाव से जोड़कर नहीं देखना चाहिए. डिप्टी सीएम ने कहा है कि प्रदेश में भाजपा की चुनी हुई सरकार है और उसके कार्यकाल के आखिरी दिन तक उन्हें फैसले लेने का भी पूरा अधिकार है.

यह भी पढ़ें-

15 जुलाई को PM मोदी का वाराणसी दौरा, 1500 करोड़ से ज्यादा की परियोजनाओं की देंगे सौगात

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*