उफनती नदी को लकड़ी के पुल के सहारे पार कर रहे किसान, जिला प्रशासन सतर्क

मुरादाबादः उत्तराखंड के पहाड़ों पर हो रही भारी बारिश का असर पश्चिम उत्तर प्रदेश के मैदानी इलाकों में भी साफ नजर आ रहा है. मुरादाबाद में पहाड़ों पर हो रही भारी बारिश का पानी गांगन, रामगंगा, कोसी नदी में पहुंच गया है. पानी ज़्यादा आने की वजह से गांगन नदी अपने पूरे उफान पर आ गई है.

ग्रामीणों ने गांगन नदी पर खेत में आने जाने के लिए लकड़ी का पुल बनाया था. अब वो लकड़ी का पुल भी पूरी तरह पानी में डूबता हुआ नज़र आ रहा है. मौसम विभाग के मुताबिक आने वाले अभी कई दिन तक पहाड़ों पर भारी बारिश होने के आसार हैं. इस कारण नदियों में पानी बढ़ने से वो उफान पर आई हैं. बाढ़ खंड विभाग के अधिकारी भी निरंतर किसानों को चेतावनी दे रहे हैं कि वह नदियों को पार न करें और ना ही कच्चे पुलों का उपयोग करें. 

दरअसल पहाड़ों पर लगातार हो रही बारिश का असर अब नदियों में भी दिखने लगा है लेकिन इन नदियों को पार कर किसानों को अपने खेतों में रोज आना और जाना पड़ता है. जिसके लिए उन्होंने नदियों पर लकड़ी के पुल बना रखे हैं, लेकिन अब नदियों में पानी बढ़ने से यह पुल भी डूबते हुए नज़र आ रहे हैं, लेकिन ग्रामीण अभी भी इन पुल का इस्तेमाल कर अपनी जान को खतरे में डाल रहे हैं.

जिला प्रशासन द्वारा कई बार ग्रामीणों से यह अपील की गई है कि वह अपनी जान को खतरे में डालकर नदियों को पार न करें, मुरादाबाद के बाढ़ खंड विभाग के सहायक अधिशासी अभियंता सुभाष चंद्रा का कहना है कि वो राजस्व विभाग के कर्मचारियों के साथ मिलकर अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग समय पर नदियों के किनारे बसे हुए गांव में जाकर वहां रहने वाले किसानों को अलर्ट करते हैं.

उनका कहना है कि किसान नदियों को पार करके अपने खेतों पर आते और जाते हैं, नदियों में पानी आने पर वो लोग कच्चे लकड़ी के बने पुल या फिर भैंसा बुग्गी पर सवार होकर नदियों के पार करते हैं. उन किसानों को हम लगातार चेतावनी जारी करते हैं कि वो ऐसा न करें, लेकिन अगर उसके बावजूद किसान चेतावनी जारी होने के बाद भी नदियां पार करते हैं तो फिर इलाके के लेखपाल की जानकारी पुलिस को दे देते हैं.

इसे भी पढ़ेंः
बीजेपी की महिला विधायक ने परशुराम मंदिर बनवाने का किया एलान, दान की 5 करोड़ की जमीन

पेगासस स्पाइवेयर: ममता बनर्जी का आरोप कहा- प्रशांत किशोर के साथ हमारी मुलाकातों की जासूसी कर रही थी सरकार

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*