Chanakya Niti: शक्तिशाली और अंहकारी शत्रु को पराजित करना है तो चाणक्य की इन बातों को कभी न भूलें, जानिए चाणक्य नीति

Chanakya Niti Hindi: चाणक्य की गिनती भारत के श्रेष्ठ विद्वानों में की जाती है. चाणक्य ने अपनी शिक्षाओं को चाणक्य नीति में बताया है. चाणक्य की चाणक्य नीति कहती है कि जब शत्रु शक्तिशाली हो तो उसे जोश से नहीं होश से पराजित करने की कोशिश की जानी चाहिए.

चाणक्य ने शत्रु का कैसे मत दी जाए इस बार अपनी चाणक्य नीति में बहुत ही रोचक और प्रभावशाली ढंग से बताया है. चाणक्य के अनुसार शत्रु शक्तिशाली हो तो उसकी कमजोरियों पर वार करना चाहिए. शत्रु की कमजोरियों को जानने के बाद सही रणनीति बनाकर उचित अवसर पर पूरी दम से वार करने से ही सफलता मिलती है.

शत्रु को कैसे पराजित किया जाए

चाणक्य के अनुसार हर सफल व्यक्ति के ज्ञात और अज्ञात शत्रु होते हैं. ये शत्रु सीधे तौर पर नुकसान पहुंचाने की कोशिश करते हैं, कुछ शत्रु ऐसे होते हैं जो छिप कर वार करते हैं, ये दिखाई नहीं देते हैं. ऐसे शत्रु अधिक खतरनाक होते हैं. शत्रु को पराजित करने के लिए कभी भी हिम्मत नहीं हारनी चाहिए. शत्रु की हर चाल का डटकर मुकाबला करना चाहिए. हौंसले से ही शत्रु का पराजित किया जा सकता है.

शत्रु शक्तिशाली हो तो क्या करें

चाणक्य के अनुसार जब शत्रु शक्तिशाली हो तो छिप जाना चाहिए और सही समय का इंतजार करना चाहिए. जो ऐसा नहीं करते हैं वे हानि उठाते हैं वहीं शत्रु जब शक्तिशाली हो तो स्वयं की शक्ति को बढ़ाने पर जोर देना चाहिए, अपने शुभ चिंतकों को एकत्र कर शत्रु के खिलाफ रणनीति बनाकर सामना करना चाहिए.

शत्रु की कमजोरियों का पता लगाएं

चाणक्य के अनुसार शत्रु की गतिविधियों पर सदैव नजर रखनी चाहिए. शत्रु की कमजोरियों का पता लगाना चाहिए. शत्रु की कमजोरी ही आपकी जीत का मार्ग प्रशस्त करती हंै. जैसे ही शत्रु की कमजोरी का पता लग जाए, उसे पराजित करने का प्रयत्न करना चाहिए. वहीं शक्तिशाली शत्रु का एकजुटता से ही पराजित किया जा सकता है.

Holiday Calendar 2021: वर्ष 2021 में पड़ने वाली छुट्टी, व्रत और पर्व के बारे में जानें कब है वसंत पंचमी, दीपावली

Solar Eclipse 2020: वृश्चिक राशि और ज्येष्ठा नक्षत्र में लगने जा रहा है साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, जानें महत्वपूर्ण बातें

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*