13 मिनट के संबोधन में PM Modi ने किए तीन बड़े एलान, जानें बड़ी बातें

PM Modi Speech Full Highlights: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार रात देश को संबोधित किया और तीन बड़े एलान किए. उन्होंने अपने संबोधन के दौरान कहा कि अगले साल तीन जनवरी से 15 साल से 18 साल तक की उम्र के बच्चों को कोरोना वायरस की वैक्सीन लगाई जाएगी. आज ही ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन को बच्चों के लिए आपातकालीन इस्तेमाल की मंज़ूरी दी है.

प्रधानमंत्री मोदी ने करीब 13 मिनट के अपने संबोधन में कई बड़ी बातें कहीं. इस दौरान उन्होंने कहा कि देश में करीब 61 फीसदी लोगों को कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज़ लगाई जा चुकी है. उन्होंने कहा कि अब देश में लोगों को 140 करोड़ कोरोना की डोज़ दी गई है.

संबोधन की बड़ी बातें

  • संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि ओमिक्रोन से घबराना नहीं है, बल्कि इससे सतर्क रहने की ज़रूरत है.
  • पीएम ने भरोसा दिलाया कि देश में इलाज की पर्याप्त व्यवस्था है.
  • देश में 18 लाख आइसोलेशन बेड की सुविधा है.
  • चार लाख ऑक्सीजन सिलेंडर देशभर को दिए गए हैं.
  • नियमों का पालन और वैक्सीनेशन कोरोना के खिलाफ हथियार.
  • वैक्सीन पर देश एक्शन मोड में है.
  • देश में 141 करोड़ कोरोना वैक्सीन की डोज़ लगाई जा चुकी है.
  • 61 फीसदी व्यस्क लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज़ लगाई गई है.
  • 90 फीसदी व्यस्क आबादी को कम से कम एक डोज़ लगाई जा चुकी है.
  • वैक्सीन निर्माण और सप्लाई चेन पर ज़ोर दिया गया. 

संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने बताया कि अगले साल तीन जनवरी से 15 से 18 साल की उम्र के बच्चों को कोरोना की वैक्सीन लगेगी. इसके अलावा 10 जनवरी से स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को कोविड टीके की बूस्टर डोज़ लगाने की शुरुआत होगी. 10 जनवरी से ही कॉ-मॉरबिडिटी वाले बुज़ुर्गों को भी उनके डॉक्टर की सलाह पर बूस्टर डोज़ (Precaution Dose) लगाई जाएगी. 

केंद्र सरकार के तीन बड़े फैसले

  • 15 से 18 साल की उम्र के बच्चों को लगेगी वैक्सीन.
  • स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को लगेगी बूस्टर डोज़.
  • 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को भी दी जा सकेगी बूस्टर डोज़. 

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी से लड़ाई का अब तक का अनुभव यही बताता है कि व्यक्तिगत स्तर पर सभी दिशानिर्देशों का पालन, कोरोना से मुकाबले का बहुत बड़ा हथियार है. और दूसरा हथियार है वैक्सिनेशन. इस दौरान उन्होंने ओमिक्रोन का भी ज़िक्र किया और कहा, “भारत में भी कई लोगों के ओमिक्रोन से संक्रमित होने का पता चला है. मैं आप सभी से आग्रह करूंगा कि पैनिक न करें सावधान और सतर्क रहें. मास्क और हाथों को थोड़ी-थोड़ी देर पर धुलना, इन बातों को याद रखें.”

Source link ABP Hindi