रुपेश सिंह हत्याकांड: 35 घंटे बाद भी आजाद हैं कातिल, गमगीन परिवार सरकार से पूछ रहा सवाल

रुपेश सिंह हत्याकांड: इंडिगो के मैनेजर रुपेश सिंह के कातिल 35 घंटे बाद भी आजाद हैं. पुलिस अबतक हत्यारों का सुराग लगाने में अबतक नाकाम रही है. ये मामला अब राजनीतिक मुद्दा बन गया है. विपक्ष लगातार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमलावर है. जिसके बाद सीएम नीतीश ने की डीजीपी से स्टेट्स रिपोर्ट तलब की है. इस बीच रुपेश की हत्या के बाद उनके गांव छपरा में मातम पसरा हुआ है. पूरे परिवार का रो-रो कर बुरा हाल है. मंगलवार को रूपेश की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

आखिर रुपेश से किसी की क्या दुश्मनी हो सकती है?

राज्य की राजधानी पटना में इंडिगो फ्लाइट मैनेजर रुपेश की हत्या की खबर मिलते ही पूरे परिवार पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा है. गमगीन परिवार सिर्फ एक ही सवाल पूछ रहा है कि आखिर रुपेश की हत्या क्यों कर दी गई? रुपेश के परिवार से लेकर उसके जानने वाले सब यही सवाल कर रहे हैं कि आखिर रुपेश से किसी की क्या दुश्मनी हो सकती है?

रुपेश के भाई हों या बहन सबका यही कहना है कि रुपेश काफी मिलनसार और सबकी मदद करने वाले थे. उनकी कभी किसी से दुश्मनी नहीं हो सकती, लेकिन जिस तरह रुपेश की हत्या हुई है वो दिखाता है कि अपराधियों ने बाकायदा प्लानिंग करके इस हत्या को अंजाम दिया है.

पत्नी और दो बच्चों के साथ पटना में रहते थे रुपेश

रुपेश पत्नी और दो बच्चों के साथ पटना में रहते थे और बाकी परिवार छपरा में रहता था. परिवार का दावा है कि वो हमेशा गांव आकर लोगों की मदद करते थे. जिसकी कभी किसी से कोई रंजिश नहीं रही हो उसकी फिर इतनी बेरहमी से हत्या क्यों की गई. ये बड़ा सवाल है और ये सवाल सरकार पर भी है जो अब तक हत्यारों के बारे में कुछ भी पता नहीं कर पाई है.

सामाजिक काम से जुड़े रहने वाले रुपेश अपने पीछे कई सवाल छो़ड गए हैं. जब तक पुलिस अपराधियों तक नहीं पहुंचती तब तक ना तो परिवार को इनका जवाब मिल पाएगा और ना ही जनता को.

यह भी पढ़ें-

Bird Flu Updates: राजस्थान में 443 और पक्षियों की मौत, अबतक देश के 10 राज्यों में फैला एवियन इन्फ्लूएंजा

Republic Day 2021: गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होंगे 321 स्कूली बच्चे और 80 लोक कलाकार

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*