मिथुन राशिफल 2021: मिथुन राशि वालों का वर्ष 2021 में कैसा रहेगा स्वभाव, जानें भविष्यफल

Gemini Rashifal 2021: मिथुन राशि वालों का वर्ष 2021 में स्वभाव कैसा रहेगा? स्वभाव व्यक्ति की सफलता और असफलता में अहम भूमिका निभाता है. ग्रहों की चाल का हमारे स्वभाव पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है. स्वभाव यदि अच्छा रहेगा तो सभी कार्यों में सफलता मिलती हैं वहीं स्वभाव में नकारात्मक बातें बनी रहेगी तो कई बाधाओं और परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

मिथुन राशि के जातकों के लिए नया साल कई मामलों में शुभ होने जा रहा है. मिथुन राशि वालों को आर्थिक, जॉब, करियर, बिजनेस के क्षेत्र में अच्छे परिणाम देखने को मिल सकते हैं,

मन को काबू में रखें और क्रोध से बचें

मिथुन राशि के जातकों को 2021 के प्रारंभ में मन बहुत संतुष्ट नहीं होगा. प्रारंभ के तीन महीने मन बीच-बीच में खिन्न हो सकता है. मन मुताबिक कार्य न होने पर क्रोध आने लगेगा, इन सब बातों को लेकर धैर्य के साथ चलना चाहिए, क्योंकि ऐसा नहीं है कि निरंतर समय विषम चले. यह समस्याएं मार्च तक अधिक रहेगी, उसके बाद स्थितियां सामान्य होने लगेंगी. अप्रैल से अक्टूबर तक भरपूर उत्साह और मन प्रफुल्लित रहेगा. नए तरीके से काम करने का मन करेगा.

विदेश यात्रा या देश में ही दूर की यात्राओं की योजनाएं बनेंगी. मनोबल मजबूत रखते हुए आगे बढ़ेंगे तो लगेगा कि अब चीजें मन मुताबिक हो रही हैं, निराशा के काले बादल दूर-दूर तक नहीं दिखाई देंगे. आपको यह बात समझनी होगी कि जीवन में सुख और दुख का आपस में कनेक्शन होता है. जब भी समय अनुकूल न हो तो धैर्य के साथ कार्य में लगे रहना चाहिए. इस तरह अनुकूलता से प्रतिकूलता प्रकट होगी. अक्टूबर से नवंबर के बीच में कुछ बनते हुए काम रुक सकते हैं, आता हुआ धन भी अटक सकता है. नवंबर समाप्त होते-होते यह सभी काम पूरे हो जाएंगे.

दांपत्य जीवन को बेहतर बनाने के लिए करने होंगे प्रयास

मिथुन राशि वाला का यदि जीवनसाथी के साथ कोई विवाद चल रहा है तो संबंधों को सूझबूझ के साथ बचाने का प्रयास करना चाहिए. यदि अहम का टकराव बढ़ा तो संबंधों की डोर टूट सकती है. 40 वर्ष से अधिक लोगों को आध्यात्मिक ज्ञान लेने की इच्छा होगी. परमात्मा एवं परम सत्ता से संबंधित पुस्तकें पढ़ने का भाव उत्पन्न होगा. पैतृक संपत्ति से लाभ हो सकता है. इसके अलावा माता-पिता से धन प्राप्ति की संभावना है.

विद्यार्थियों को पढ़ाई पर बहुत ध्यान देना चाहिए, किसी भी प्रकार का आलस्य परीक्षा फल में अंक कम कर सकता है.विवाह योग्य संबंध की बात चलेगी. अप्रैल से सितंबर के मध्य विवाह होने की प्रबल संभावनाएं बन सकती है. ध्यान रहें कि हर काम कानून के दायरे में रहकर करें. किसी भी तरह से कानून का उल्लंघन या कानून हाथ में लेना भारी पड़ सकता है.

Shani Dev: शनि कब होगें वक्री? शनि वक्री होने से इन राशियों की बढ़ेंगी परेशानी, अभी से आरंभ कर दें उपाय

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*