IND vs AUS: कप्तानी को लेकर विराट के समर्थन में आए हरभजन सिंह, बोले- एक व्यक्ति आपको मैच…

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वनडे में लगातार मिली हार के बाद टीम इंडिया ने सीरीज गंवा दी है. इसके साथ ही कई दिग्गज क्रिकेटर विराट कोहली की कप्तानी को लेकर सवाल उठा रहे हैं. ऐसे में भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह ने उनका बचाव किया है. अनुभवी स्पिनर का मानना ​​है कि कोहली अपनी कप्तानी को लेकर किसी दबाव में नहीं हैं.

सिडनी में खेले गये दोनों वनडे मुकाबलों में भारतीय टीम को शिकस्त झेलनी पड़ी. इसी के साथ ऑस्ट्रेलियाई टीम ने तीन मैचों की वनडे सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त ले ली है. विराट कोहली की अगुवाई वाली भारतीय ने पहला वनडे 66 रनों से गंवाया. दूसरे वनडे मुकाबले में भी भारतीय गेंदबाजों की जमकर धुनाई हुई. ऑस्ट्रेलिया ने दूसरे वनडे में 389 रनों का विशाल स्कोर बनाया. जवाब में भारत 9 विकेट के नुकसान पर 338 रन ही बना पाया और टीम इंडिया को 51 रनों से हार का मुंह देखना पड़ा. लगातार दो वनडे में मिली हार से क्रिकेट फैन्स के बीच काफी नाराजगी देखने को मिल रही है.

हरभजन सिंह ने इंडिया टुडे से बात करते हुए कहा, “मुझे नहीं लगता कि विराट कोहली कप्तानी को लेकर किसी भी प्रकार के दबाव में हैं. मुझे नहीं लगता कि विराट के लिये कप्तानी बोझ है. मुझे लगता है कि वह उन चुनौतियों का आनंद उठाते है, वह एक लीडर हैं, जो फ्रंट से लीड करके टीम के लिए उदाहरण पेश करते हैं. वह टीम की जरूरतों को पूरा करते हैं.”

हरभजन सिंह का मानना ​​है कि कप्तानी ने विराट कोहली की बल्लेबाजी को प्रभावित नहीं किया है. भज्जी का कहना है कि जहां तक ​​मैच जीतने का सवाल है कोहली एकतरफा सभी मैच नहीं जीता सकते. उन्होंने कहा, “मुझे नहीं लगता कि कप्तानी विराट के खेल को प्रभावित कर रही है क्योंकि एक व्यक्ति आपको मैच नहीं जीता सकता है. जैसा कि मैंने विश्व कप के बाद भी ये बात कही थी. आपके पास विराट कोहली और रोहित शर्मा हैं, जो टीम को आगे ले जा रहे हैं और अधिकांश रन बना रहे हैं.”

भज्जी ने कहा, “केएल राहुल को प्रदर्शन करते हुए देखना अच्छा है लेकिन आपको टीम इंडिया के लिए लगातार कुछ और प्लेयर्स की आवश्यकता है. ताकि विराट से दबाव थोड़ा हट सके और वह खुलकर बल्लेबाजी कर सकें. वह जो चाहे कर सकते हैं.”

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*