हरिद्वार: कुभ मेले को भव्य बनाने के लिए प्रशासन कर रहा है खास तैयारी, जानें- क्या है खास

हरिद्वार: पूरी दुनिया में विख्यात धर्म नगरी हरिद्वार को मोक्ष का द्वार कहा जाता है. पहाड़ों से निकलकर मां गंगा का समतल स्थान भी हरिद्वार ही है, इसका वर्णन पुराणों में भी मिलता है. धर्मनगरी में कुंभ मेला शुरू होने वाला है और मेले को धार्मिक दृष्टि से भव्य रूप देने में मेला प्रशासन जुटा हुआ है. मेला प्रशासन की तरफ से हरिद्वार में कई ऐसे द्वार बनाए जा रहे हैं जो काफी आलौकिक हैं. इन द्वारों को खास उत्तराखंड की संस्कृति से सजाया और संवारा जा रहा है. आखिर क्यों खास हैं ये द्वार पढ़ें हमारी इस खास रिपोर्ट में…

कुंभ मेले को भव्य और सुंदर बनाने की तैयारी

प्राचीन समय में राजा महाराजा अपने नगर को सजाने के लिए बड़े-बड़े द्वारों का निर्माण कराया करते थे. मगर आज के युग में ये परंपराएं विलुप्त होती जा रही है. डिजिटल समय में लोग अपनी पुरानी परंपरा को भूलते जा रहे हैं. मगर कुंभ मेले में प्रशासन उन्हीं पुरानी सभ्यता के साथ कुंभ मेले को भव्य और सुंदर बनाने की तैयारी में जुटा हुआ है. मेला प्रशासन मेला क्षेत्र में कई ऐसे द्वार बना रहा है जो भारतीय संस्कृति और सनातन धर्म को दिखाने का कार्य करेंगे. कुंभ मेले में आने वाले श्रद्धालु इन भव्य और सुंदर द्वारों को देखकर आनंद की अनुभूति करेंगे.

कुंभ की सुंदरता देखने लायक होगी

कुंभ मेला अधिकारी दीपक रावत का कहना है कि द्वारों का कार्य हरिद्वार में कई जगह चल रहा है. हर की पौड़ी, चौकी मेला भवन, हाथी पुल और ललतारा पुल पर द्वार बनाए जा रहा है. साथ ही बस अड्डे पर भी भव्य द्वार बनाया जा रहा है. मेला अधिकारी का कहना है कि इन द्वारों के बनने से कुंभ की सुंदरता भी देखने लायक होगी. इन द्वारों के माध्यम से कुंभ के साथ उत्तराखंड की संस्कृति को दर्शाने का कार्य किया जाएगा.

यात्रियों को कुंभ की भव्यता का अनुभव होगा

स्थानीय निवासी भी द्वार बनने के कार्य से काफी उत्साहित हैं. लोगों का कहना है कि ये अच्छी पहल है. द्वार के माध्यम से हरिद्वार और उत्तराखंड की संस्कृति दिखाई जा रही है क्योंकि कुंभ का महान पर्व हरिद्वार में लगने वाला है. देश दुनिया से जो यात्री हरिद्वार आएंगे उनको कुंभ की भव्यता का अनुभव होगा. द्वारों में जितने भी चित्र बनाए गए हैं वो उनके ज्ञान को दर्शाते हैं. स्थानीय लोगों का कहना है कि कई और प्रकार की सजावट का कार्य भी मेला प्रशासन को करना चाहिए इन द्वारों को देखकर अच्छा महसूस हो रहा है.

मंत्रमुग्ध हो जाएंगे श्रद्धालु

मोक्ष के द्वार हरिद्वार में सदियों से लोग मोक्ष की प्राप्ति के लिए आते हैं. हरिद्वार में मां गंगा कलकल बहती हैं. हरिद्वार को चारों धामों का द्वार भी कहते हैं. चार धामों की यात्रा भी हरिद्वार से ही शुरू होती है. आने वाले कुंभ मेले में श्रद्धालुओं को भव्य हरिद्वार के दर्शन हों इसी को लेकर मेला प्रशासन भव्य द्वारों का निर्माण करा रहा है. द्वारों पर अलौकिक और भव्य चित्र बनाए जा रहे हैं जिसे देखकर हरिद्वार आने वाले श्रद्धालु मंत्रमुग्ध हो जाएंगे.

ये भी पढ़ें:

यूपी के कृषि मंत्री बोले- ऑडी और मर्सिडीज से चलने वाले आंदोलन में शामिल, किसान खेतों में कर रहे हैं काम

UP Coronavirus Update: कोरोना वायरस से 14 और मरीजों की मौत, सामने आए 1613 नए केस

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*