Farmers protest: किसानों ने जामिया के छात्रों को प्रदर्शन में शामिल होने से रोका, यूपी गेट से वापस भेजा

गाजियाबाद: नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों ने रविवार को जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों के एक समूह को यूपी गेट से वापस भेज दिया. किसानों ने उन्हें गाजीपुर बॉर्डर पर अपने प्रदर्शन में शामिल होने से रोक दिया. लड़कियों समेत छह छात्रों का ग्रुप गीत गाता और डफली बजाता हुआ किसानों को समर्थन देने आया था.

डीएसपी अंशू जैन ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा कि जब किसान नेताओं ने प्रदर्शन स्थल पर छात्रों की मौजूदगी पर आपत्ति जतायी तो पुलिस ने उन्हें वापस भेज दिया. इस बीच भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार ‘किसानों की एकता को तोड़ना चाहती है.’

उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में किसानों का प्रदर्शन स्थल पर आने का सिलसिला जारी है और तीन कृषि कानूनों के खिलाफ जारी आंदोलन इतिहास रच देगा.

सरकार से किसान आयोग के गठन की मांग

वहीं, नोएडा-दिल्ली चिल्ला बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के एक समूह ने फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फैसला करने के लिए सरकार से किसान आयोग के गठन की मांग की. चिल्ला बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे भारतीय किसान यूनियन ने किसानों की पेंशन के लिए कानूनी प्रावधान की भी मांग की. बीकेयू के प्रमुख ठाकुर भानू प्रताप सिंह ने ये मांग उठाते हुए कहा कि इससे देशभर के किसानों को फायदा होगा.

ये भी पढ़ें-
दिल्ली बॉर्डर से किसानों को हटाने की मांग वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में 16 दिसंबर को होगी सुनवाई

10 बड़ी बातें | किसानों का आंदोलन हुआ और तेज, आज दिल्ली के सभी बॉर्डर पर एक दिन का अनशन करेंगे किसान

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*