HSRP: क्या है हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट और क्यों है इसकी जरूरत? जानिए कैसे करें इसे आसानी से हासिल

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में गाड़ियों पर हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट (HSRP) और कलर कोडेड स्टिकर लगवाना अनिवार्य है. नई गाड़ियों में ये चीजें शोरूम से लगकर मिलेंगी जबकि पुरानी गाड़ियों में ये चीजें लगवानी होगी. इसके लिए दिल्ली सरकार ने खास इंतजाम किए हैं. वहीं अगर दिल्ली में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट और कलर कोडेड स्टिकर के बिना कोई गाड़ी मिलती है तो उस पर जुर्माना लगाया जाएगा. जिन लोगों के पास दिल्ली रजिस्ट्रेशन की गाड़ी है, उनके लिए अब गाड़ियों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगवाना अनिवार्य है. अभी भी कई लोगों ने अपनी गाड़ियों पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) नहीं लगवाई है. ऐसे में उन पर 5500 रुपये का जुर्माना भी लगाया जा सकता है.

क्या है हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP)?

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट एक खास तरह की नंबर प्लेट है. इस नंबर प्लेट पर गाड़ी का नंबर एंबोइज्ड यानी उभरा हुआ होता है. नंबर प्लेट पर खास तरह की तकनीक से स्टांप कलर होता है, जिसे मिटाया नहीं जा सकता है. इसके साथ ही एक खास लेजर कोडेड नंबर होता है और होलोग्राम भी होता है. वहीं लेजर कोड के जरिए उस गाड़ी की जानकारी जुड़ी होती है. जैसे- गाड़ी का इंजन, चेसिस नंबर, मालिक का नाम और पता, गाड़ी की रजिस्ट्रेशन की जानकारी. इस नंबर प्लेट को लगाने का खास तरीका है और लगने के बाद इसे निकालना मुश्किल है.

बता दें कि ये हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट तीन कलर में है. अगर प्राइवेट कार है तो सफेद रंग पर काले रंग में नंबर होगा. वहीं अगर कमर्शियल गाड़ी है तो उसके लिए पीले रंग की प्लेट पर काले अक्षरों में नंबर होगा. इसके अलावा इलेक्ट्रिक या हाइब्रिड के लिए ये हरे रंग का होगा.

कैसे लगेगा?

अभी भी कई गाड़ियां ऐसी हैं, जिन पर एचएसआरपी नहीं लगा है. हालांकि इसको लेकर दिल्ली सरकार ने खास व्यवस्था की है. दरअसल, दिल्ली के कार डीलर और वर्कशॉप पर ये नंबर प्लेट लगवाया जा सकता है. इसके लिए वेबसाइट www.bookmyhsrp.com पर जाकर बुकिंग करनी होगी और तय रकम देनी होगी.

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट को लगाने का भी खास तरीका है. इसे गाड़ी में ऐसे फिट किया जाता है कि कोई निकालना चाहे तो भी नहीं निकाल सकता है. अगर कोई इसे निकालना चाहेगा तो बोनट के नीचे जिस हिस्से में प्लेट लगी होती है वो भी उसके साथ ही बाहर आ जाएगा. वहीं इसे दोबारा लगवाने के लिए गाड़ी में वो हिस्सा दोबारा लगवाना होगा.

यह भी पढ़ें:

दिल्ली सरकार ने शुरू किया अभियान, हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट-कलर कोड स्टिकर की होगी जांच

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*