WHO की रिपोर्ट में दावा- भारत में मलेरिया के मामलों में आई कमी, 2019 में महज 56 लाख केस

नई दिल्लीः भारत में साल 2000 में जहां मलेरिया के करीब दो करोड़ मामले सामने आए, वहीं 2019 में मलेरिया के मामलों की संख्या घटकर लगभग 56 लाख रह गई. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की सोमवार को जारी एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है.

डब्ल्यूएचओ की हालिया विश्व मलेरिया रिपोर्ट के अनुसार, भारत में मलेरिया के मामलों में सबसे बड़ी कमी देखने को मिली है. रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में 2018 की तुलना में 12 लाख मलेरिया के मामलों में कमी दर्ज की गई है.

मलेरिया से 2019 में करीब 409,000 लोगों की मौत

वार्षिक अनुमान के तहत 2019 में मलेरिया के मामलों का वैश्विक स्तर 2.29 करोड़ था और यह अनुमान पिछले चार वर्षों में लगभग अपरिवर्तित रहा है. इस बीमारी ने 2018 में 411,000 की तुलना में 2019 में करीब 409,000 लोगों की जान ली.

डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में कहा गया है कि विशेष रूप से अफ्रीका में मलेरिया का अधिक प्रभाव देखा गया है.जीवन रक्षक उपकरणों की पहुंच में कमी से इस बीमारी पर अंकुश लगाने के वैश्विक प्रयास कमजोर हुए हैं. इसके साथ ही अब विश्व भर के देश कोविड-19 महामारी से लड़ रहे हैं, जिस दौरान इसके और भी बढ़ने की उम्मीद है.

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस अदनोम गेब्रेयसस ने कहा, “यह अफ्रीका और दुनिया भर के नेताओं के लिए समय है कि वे मलेरिया की चुनौती से पार पाने के लिए एक बार फिर से उठ खड़े हों.” उन्होंने मलेरिया के खिलाफ लड़ाई में संयुक्त कार्रवाई पर जोर दिया.

भारत में अब भी मलेरिया के सबसे अधिक प्रभावित 11 देशों में

भारत में हालांकि मलेरिया के मामलों में कमी जरूर देखी गई है, मगर यहां अभी भी यह बीमारी एक चुनौती बनी हुई है.भारत दुनिया के 11 सबसे अधिक मलेरिया के बोझ वाले देशों में से एक है. अफ्रीका के बाहर भारत ही एकमात्र ऐसा देश है, जहां मलेरिया के मामले और इसकी वजह से होने वाली मौत दुनिया भर के मुकाबले लगभग 70 प्रतिशत है.

यह भी पढ़ें-

पीएम मोदी का काशी में विपक्ष पर निशाना, बोले- कुछ लोगों के लिए परिवार ही है विरासत

जम्मू कश्मीर: शेहला रशीद के पिता ने DGP को लिखी चिट्ठी, बताया- जान का खतरा, शेहला का आरोपों से इनकार

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*