बिहार: गोपालगंज में मीट व्यवसायी की गोली मारकर हत्या, अपराधियों ने गटर में फेंकी लाश

गोपालगंज: बिहार के गोपालगंज के भोरे में अपराधियों ने मीट कारोबारी की गोली मारकर हत्या कर दी. घटना को अंजाम देने के बाद अपराधी मृतक के शव को गटर में छोड़कर फरार हो गए. गटर में शव पड़े होने की सूचना पुलिस को सुबह मिली. सूचना पाकर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची, जहां उसे मृतक कारोबारी की बाइक और उसके जेब से कुछ पैसे भी मिले हैं. जबकि कारोबारी का मोबाइल फोन गायब था.

इधर, इस घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने भोरे-कटेया मुख्य मार्ग को जाम कर हंगामा भी किया. ग्रामीणों को काफी समझाने के बाद पुलिस ने सड़क जाम हटवाया और शव को पोस्टमार्टम के लिए गोपालगंज में भेज दिया. इस घटना के बाद हथुआ एसडीपीओ नरेश कुमार के नेतृत्व में अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू की गयी है. अभी तक घटना के कारणों का खुलासा नहीं हो पाया है.

बता दें कि भोरे थाना क्षेत्र के कोरेया गांव निवासी हाफिज अंसारी का 36 वर्षीय बेटे अफजल अंसारी भोरे के वायरलेस मोड़ पर मीट का कारोबार करता था. इसी क्रम में रोज की तरह सोमवार को भी उसने देर शाम अपनी दुकान बंद की और घर जाने के लिये निकला. इसी बीच उसकी पत्नी कमरून नेशा का फोन उसके मोबाइल पर आया और उसने उससे घर आने की जानकारी ली.

अफजल ने पत्नी को बताया कि वह भोरे में एक पार्टी में शामिल होने के बाद ही घर आयेगा. उसके बाद से उसका मोबाइल फोन स्विच ऑफ हो गया. देर रात तक जब वह घर वापस नहीं आया, तो परिजन आशंकित हो गये. मंगलवार की सुबह भोरे-कटेया मुख्य मार्ग के समीप बड़हरा की ओर जाने वाली सड़क के किनारे बनी गटर में ग्रामीणों ने एक युवक के शव को देखकर पुलिस को दी.

शव की पहचान अफजल अंसारी के रूप में की गई. अफजल के गले पर कटे का निशान था और सिर में गोली मारकर उसकी हत्या की गई थी. घटना की जानकारी मिलने के बाद ग्रामीण घटनास्थल पर पहुंचे और हंगामा शुरू कर दिया. मौके पर मौजूद थानाध्यक्ष सुभाष कुमार सिंह ने इसकी जानकारी हथुआ एसडीपीओ नरेश कुमार को दी. एसडीपीओ नरेश कुमार भी मौके पर पुलिस बल के साथ पहुंच गये. काफी समझा-बुझाकर शव को पोस्टमार्टम के लिये भेजा गया.

इसी बीच ग्रामीण पुलिस की गाड़ी को घेर कर शव को वापस लाने की मांग पर अड़ गये. इसी बात को लेकर भोरे – कटेया मुख्य पथ को ग्रामीणों ने बांस बल्ला लगाकर जाम कर दिया. सड़क जाम होने के बाद पुलिस ने फिर से शव को घटनास्थल पर पहुंचाया और ग्रामीणों को समझाने की कोशिश करने लगे. काफी समझाने के बाद ग्रामीणों ने पुलिस से 48 घंटे के अंदर हत्याकांड के खुलासे का लिखित आश्वासन लेने के बाद जाम हटाया.

हथुआ एसडीपीओ नरेश कुमार ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है. 48 घंटे के अंदर इस हत्याकांड का खुलासा कर लिया जायेगा. इधर, मृतक की पत्नी ने कहा कि शाम के सात बजे उसने मृतक के मोबाइल पर फोन किया, तब मृतक ने पार्टी में शरीक होकर घर आने की बात कही थी. लेकिन वो देर रात तक वापस नहीं आया और सुबह उसके हत्या की जानकारी मिली. ऐसे में उसने अपील की कि पुलिस प्रशासन उसके पति के हत्यारों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करे.

यह भी पढ़ें –

सीएम नीतीश से कांग्रेस की मांग- खत्म हो शराबबंदी कानून, उसी पैसे से युवाओं के लिए लगें कारखाने


नीतीश कैबिनेट की पहली बैठक में बड़ा फैसला, राज्य के लोगों को दिया जाएगा कोरोना का मुफ्त टीका

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*