50 हजारी बन सकता है सेंसेक्स, ब्रोकरेज कंपनी ने जताई अर्धशतक लगाने की उम्मीद

नई दिल्ली: भारतीय शेयर बाजार लगातार तेजी के साथ कारोबार कर रहा है. वहीं सेंसेक्स और निफ्टी भी अपने रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच चुके हैं. वास्तविक इकॉनोमी और शेयर बाजारों की चाल के बीच किसी तरह का तालमेल नहीं होने को लेकर सवाल उठते रहते हैं. इसके बावजूद फ्रांस की ब्रोकरेज कंपनी बीएनपी परिबा को भारतीय शेयर बाजारों को लेकर काफी उम्मीदें हैं. बीएनपी परिबा ने कहा कि बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 2021 के अंत तक करीब 9 फीसदी बढ़कर 50,500 अंक पर पहुंच जाएगा.

ब्रोकरेज कंपनी ने कहा कि भारत में काफी ग्रोथ हो रही है. इससे शेयर बाजार को भी मदद मिल रही है. हालांकि, बीएनपी परिबा का मानना है कि भारत की शहरी आय में कमी, लगातार ऊंची मुद्रास्फीति और बैंकों के बही-खातों की सवालिया गुणवत्ता देश के लिए चिंता का विषय है. कोरोना वायरस महामारी के शुरुआती दिनों में भारतीय बाजारों में 30 फीसदी की गिरावट आई थी, लेकिन उसके बाद बाजारों की स्थिति में जोरदार सुधार दर्ज हुआ है. शेयर बाजार इस साल अप्रैल से करीब 70 फीसदी चढ़ चुके हैं.

भारतीय बाजार बना रहे रिकॉर्ड

आलोचकों का कहना है कि वैश्विक स्तर पर बहुत अधिक तरलता उपलब्ध होने की वजह से भारतीय बाजार रिकॉर्ड बना रहे हैं. वहीं निवेशकों की राय है कि वे भारतीय अर्थव्यवस्था की दीर्घावधि की संभावनाओं के मद्देनजर इस पर दांव लगा रहे हैं. हालांकि, कुछ लोग सिर्फ चुनिंदा शेयरों पर अत्यधिक ध्यान दिए जाने को लेकर चिंतित है.

बीएनपी परिबा के विश्लेषकों ने कहा कि जहां तक शेयरों के चयन का सवाल है तो भारत को दो तरीके से लाभ हो रहा है. बड़े शेयर और बड़े हो रहे हैं और अन्य एशियाई बाजारों की तुलना में यहां गुणवत्ता वाले शेयर बड़ी मात्रा में उपलब्ध हैं. ब्रोकरेज कंपनी ने कहा कि भारत में आर्थिक पुनरोद्धार की स्थिति बेहतर है. उच्च चक्रीय संकेतक मसलन वाहन बिक्री, इस्पात और सीमेंट की खपत और रेलवे की ढुलाई आदि कोविड-19 के पहले के स्तर पर या उससे ऊपर पहुंच रहे है.

यह भी पढ़ें:

PAN-Aadhaar लिंक नहीं किया है तो करा लें जल्द, वरना इस तारीख के बाद लग सकता है भारी जुर्माना

Loan के लिये करने जा रहे हैं आवेदन?, कभी न करें ये गलतियां वरना होगा नुकसान

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*