शुभेंदु अधिकारी को ‘जेड’ कैटगरी की सुरक्षा मिली, जानिए कितने जवान रहेंगे सिक्योरिटी में

कोलकाता: तृणमूल कांग्रेस के पूर्व विधायक शुभेंदु अधिकारी को केंद्र सरकार ने ‘जेड’ श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की है. आधिकारिक सूत्रों ने शुक्रवार को इस बारे में बताया. उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल में आवाजाही के दौरान अधिकारी (50) को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के सशस्त्र कमांडो सुरक्षा मुहैया कराएंगे.

सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस संबंध में एक आदेश जारी कर दिया है. उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल को छोड़कर अन्य जगहों पर उन्हें केंद्रीय अर्द्धसैन्य बल के ‘वाई प्लस’ स्तर की सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी. अधिकारी ने तृणमूल कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से गुरुवार को इस्तीफा दे दिया. इससे पहले उन्होंने राज्य मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह शनिवार से राज्य के दो दिवसीय दौरे की शुरुआत करेंगे.

छह-सात सशस्त्र कमांडो की एक मोबाइल टीम की सुविधा मिलेगी

‘जेड’ श्रेणी की सुरक्षा के तहत अधिकारी को सीआरपीएफ के छह-सात सशस्त्र कमांडो की एक मोबाइल टीम और एक पायलट वाहन और एक एस्कॉर्ट वाहन की सुविधा मिलेगी. उन्होंने बताया कि अधिकारी को संभावित खतरे के मद्देनजर सुरक्षा मुहैया कराने के पहले केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों की एक रिपोर्ट का आकलन किया गया. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस सप्ताह की शुरुआत में बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय की सुरक्षा भी बढ़ाते हुए पश्चिम बंगाल में उनके दौरे के दौरान काफिले में ‘‘बुलेट रोधी’’ कार की सुविधा भी प्रदान की है.

सांसद नारायण राणे को ‘वाई’ श्रेणी की वीआईपी सुरक्षा प्रदान की है

बीजेपी के महासचिव और पश्चिम बंगाल मामलों के प्रभारी विजयवर्गीय को सीआईएसएफ सुरक्षा प्रदान करती है. संबंधित घटनाक्रम में गृह मंत्रालय ने महाराष्ट्र से सांसद नारायण राणे को ‘वाई’ श्रेणी की वीआईपी सुरक्षा प्रदान की है. सीआईएसएफ राणे (68) को देश भर में सुरक्षा मुहैया कराएगी और आवाजाही के दौरान उनके साथ दो सुरक्षा कर्मी रहेंगे.

यह भी पढ़ें.

हाथरस केस: जानिए- किस आधार पर CBI ने दाखिल की चार्जशीट, कौन सी धारा लगाई?

पश्चिम बंगाल पुलिस की कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक, कैलाश विजयवर्गीय समेत 6 बीजेपी नेताओं को मिली बड़ी राहत

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*