कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए कराना होगा रजिस्ट्रेशन, यहां पढ़ें पूरी प्रक्रिया

नई दिल्ली: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कोरोना वायरस का टीका (वैक्सीन) लगवाने के लिए रजिस्ट्रेशन अनिवार्य होगा. रजिस्ट्रेशन होने के बाद सेशन साइट यानी वैक्सीन कहां लगेगी और सेशन टाइमिंग यानी वैक्सीन कब लगेगी, इसकी जानकारी मिलेगी. रजिस्ट्रेशन का माध्यम ऑनलाइन होगा. इसके बाद लाभार्थी को रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक मैसेज मिलेगा जिसमें वैक्सीनेशन का समय, स्थान और तारीख की जानकारी दी जाएगी.

कौन-कौन से दस्तावेज होंगे मान्य

वैक्सीन के लिए ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड, बैंक/पोस्ट ऑफिस की तरफ से जारी किए गए पासबुक, मनरेगा जॉब कार्ड, पासपोर्ट, पेंशन डॉक्यूमेंट और राज्य/केंद्र द्वारा जारी सर्विस आइडेंटिटी कार्ड आदि दस्तावेज मान्य होंगे. मंत्रालय ने कहा कि लोगों को ये सलाह दी जाती है कि वैक्सीन लेने से पहले वैक्सीनेशन सेंटर पर आधा घंटे का आराम लें.

कोरोना वैक्सीन की पूरी खुराख लेने की सलाह

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कोविड-19 के टीके की खुराक लेना व्यक्ति की इच्छा पर निर्भर करेगा और रेखांकित किया कि भारत में उपलब्ध टीका भी दूसरे देशों में विकसित टीके जितना ही कारगर होगा. मंत्रालय ने कहा कि पूर्व में कोविड-19 से संक्रमित हो चुके लोगों को भी कोरोना वायरस के टीके की पूरी खुराक लेने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे बीमारी के खिलाफ मजबूत प्रतिरोधक क्षमता तैयार होगी. मंत्रालय ने कहा कि दूसरी खुराक लेने के दो हफ्ते बाद शरीर में एंटीबॉडी का सुरक्षात्मक स्तर तैयार होता है.

जल्द ही शुरू वैक्सीनेशन की तैयारी

मंत्रालय ने गुरुवार रात कोविड-19 टीके से जुड़े कुछ सवालों-जवाबों की सूची तैयार की. इसमें कुछ सवालों को शामिल किया गया है जैसे कि क्या सबके लिए टीका लेना जरूरी है, टीके से कितने दिनों में एंटीबॉडी तैयार होंगी, क्या कोविड-19 से उबर चुका व्यक्ति भी टीका ले सकता है आदि. मंत्रालय ने कहा, ‘‘कोविड-19 का टीका लेना व्यक्ति की इच्छा पर निर्भर करेगा. हालांकि टीके की पूरी खुराक लेने की सलाह दी जाती है.’’ इसके साथ ही कहा कि विभिन्न टीके परीक्षण के अलग-अलग चरण में हैं. सरकार जल्द ही कोविड-19 टीकाकरण शुरू करने के लिए तैयारी कर रही है.

भारत में छह वैक्सीन का चल रहा ट्रायल

भारत में कोविड-19 के छह वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है. इसमें आईसीएमआर के साथ तालमेल से भारत में बायोटेक द्वारा विकसित टीका, जायडस कैडिला, जेनोवा, ऑक्सफोर्ड के टीके पर परीक्षण चल रहा है। रूस के गमालेया राष्ट्रीय केंद्र के साथ तालमेल से हैदराबाद में डॉ रेड्डी लैब में स्पूतनिक वी के टीके और एमआईटी, अमेरिका के साथ तालमेल से हैदराबाद में बायोलोजिकल ई लिमिटेड द्वारा विकसित टीका भी शामिल हैं.

राज्यों से कही गई है ये बात

कम अवधि में परीक्षण के बाद तैयार टीका क्या सुरक्षित होगा और क्या इसके कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं, इस पर मंत्रालय ने कहा है कि सुरक्षा और कारगर होने के आधार पर नियामक संस्थानों की मंजूरी के बाद टीके की पेशकश की जाएगी. मंत्रालय ने कहा कि सुरक्षित टीकाकरण अभियान के लिए राज्यों को टीके के विपरीत असर की स्थिति से निपटने के लिए भी इंतजाम करने को कहा गया है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि 28 दिन के अंतराल पर टीके की दो खुराक लेने की आवश्यकता होगी. कैंसर, मधुमेह, हाइपरटेंशन आदि से जूझ रहे मरीज भी कोविड-19 के टीके की खुराक ले सकते हैं.

शुरुआती चरण में इन्हें दी जाएगी वैक्सीन

शुरुआती चरण में कोविड-19 के टीके स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम मोर्चे पर काम करने वाले प्राथमिकता समूह को दिए जाएंगे. टीके की उपलब्धता के आधार पर 50 से ज्यादा उम्र वालों को भी इसकी खुराक दी जा सकती है. चिन्हित लोगों को टीकाकरण और उसके समय के बारे में उनके मोबाइल नंबर पर सूचना दी जाएगी. स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम मोर्चे के कर्मियों को टीकाकरण के लिए क्यों चुना गया है इस पर मंत्रालय ने कहा है कि सरकार अत्यंत जोखिम वाले समूहों को प्राथमिकता दे रही है कि उन्हें सबसे पहले टीके की खुराक मिले.

PM मोदी बोले- रातों-रात नहीं आए हैं कृषि कानून, अगर कोई आशंका है तो हम बातचीत के लिए तैयार | पढ़ें 10 बड़ी बातें  

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*