बड़ी राहत: झारखंड के बोकारो से कल चली दूसरी ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ यूपी की राजधानी लखनऊ पहुंची

लखनऊ: देश में जानलेवा कोरोना वायरस का खतरा बरकरार है. ऑक्सीजन की कमी होने से कई राज्यों में मरीज बेहाल हैं. इस बीच राहत देने वाली बड़ी खबर सामने आई है. झारखंड के बोकारो से कल चली दूसरी ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ टेंकर्स उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ पहुंच गई है. पिछले कई दिनों से ऑक्सीजन की कमी से अस्पताल बेहाल हैं.

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष सुनीत शर्मा ने कहा कि ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ ट्रेनों के प्रत्येक टैंकर में लगभग 16 टन चिकित्सीय ऑक्सीजन ले जाई जा सकती है और ये ट्रेन 65 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलती हैं. इस तरह की पहली ट्रेन 19 अप्रैल को सेवा में आई थी जब ऑक्सीजन भरने सात ट्रक मुंबई से विशाखापत्तनम रवाना हुए थे. इन ट्रकों को ट्रेन में लादकर इनके गंतव्यों तक भेजा गया था.

वहीं, राज्य के अपर मुख्‍य सचिव (सूचना) नवनीत सहगल ने कहा कि हर अस्पताल में वातावरण से ऑक्सीजन बनाने की योजना पर कार्य चल रहा है और 31 ऐसे अस्पतालों के लिए शासन से आदेश जारी किये जा चुके हैं, जहां अगले 15 से 20 दिनों में वातावरण की हवा से ऑक्सीजन बनाने के प्‍लांट लग जाएंगे. उन्होंने बताया कि इसके अलावा मरीजों के लिए 1500 ऑक्सीजन संयंत्र का भी आदेश दिया गया है.

यूपी में कोरोना के 37,238 नए मामले दर्ज

राज्य में शुक्रवार को कोरोना वायरस संक्रमण से एक दिन में सर्वाधिक 199 और मरीजों की मौत हो गई और कोरोना के रिकार्ड 37,238 नए मामले सामने आए. राज्‍य में इस समय कुल 2,73,653 मरीज उपचाराधीन हैं, जिनमें से दो लाख 18 हजार मरीज पृथकवास में और बाकी निजी और सरकारी अस्पतालों में अपना उपचार करा रहे हैं.

राज्य में पिछले 24 घंटे में 199 और संक्रमितों की मौत होने से राज्य में मृतक संख्या बढ़कर 10,737 हो गई है. वहीं कोविड-19 के 37,238 नये मामले सामने आने से अब तक कुल संक्रमितों की संख्या 10,13,370 हो गई है. पिछले 24 घंटे में उपचार के बाद 22,566 मरीज घर भेजे गये और अब तक कुल 7,28,980 मरीज स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं.

दिल्ली ने भी मांगी ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ ट्रेन

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने कहा कि अस्पतालों में ऑक्सीजन की भारी कमी के बीच कोरोना रोगियों की जान बचाने के लिए उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र के बाद दिल्ली ने भी ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ ट्रेन सेवा मांगी है. हमें राउरकेला से ऑक्सीजन मिलने की संभावना है. हमने दिल्ली सरकार से अपने ट्रक तैयार रखने को कहा है और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में हमारे वैगन, रैंप तैयार हैं.’’

यह भी पढ़ें-

‘सबसे पहले अमेरिकी’, बाइडेन प्रशासन ने भारत को कोरोना वैक्सीन का कच्चा माल देने पर लगाई रोक

कोरोना का कहर: देश में सबसे ज्यादा एक्टिव केस वाला जिला बना बेंगलुरू, पुणे दूसरे नंबर पर

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*